शुक्रवार, मार्च 29, 2013

कभी कभी मेरे दिल में ख्याल आता है













कभी कभी मेरे दिल में ख्याल आता है -

काश लोन लेकर शादी की होती -
तो ज़िन्दगी आबाद हो भी सकती थी

ये बेलन और झाड़ू से पिटाई बदन पे खाई है -
रिकवरी एजेंटों की दुआओं से खो भी सकती थी

मगर ये हो न सका और अब ये आलम है -
के बीवी ही है, जिसे मेरा दम निकालने की जुस्तजू  ही है

गुज़र रही है कुछ इस तरह से ज़िन्दगी जैसे -
इससे वसूली वालों के सहारे की आरज़ू ही है

ना कोई राह, न मंज़िल, न रौशनी का सुराग -
गुज़र रही है हतौडों-थपेड़ों में ज़िन्दगी मेरी

इन्ही हतौडों-थपेड़ों से उठ जाऊंगा कभी सो कर -
मैं जानता हूँ मेरे ग़म-वफ़ात, मगर यूँही

कभी कभी मेरे दिल में ख्याल आता है

23 टिप्‍पणियां:

  1. रस्तोगी जी ,आज की पीढ़ी के ख्यालों पर ...तो जवानों का ही हक है
    मेरे पास तो आपके लिए शुभकामनायें हैं !
    स्वस्थ रहें!

    जवाब देंहटाएं
  2. आपको मेरी शुभकामनायें! ईश्वर आपकी हर इच्छा पूरी करे!

    जवाब देंहटाएं
  3. सब समझेंगे कि अनुभव का मारा है
    क्या जाने कि कवि अभी तक कुंवारा है
    भविष्य के लिए आशीर्वाद की जरुरत है
    शुभकामनायें !!

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. हा हा हा .... बहुत खूब माँ.... आप भी सही टांग खीचें जा रही हैं मेरी :)

      हटाएं
    2. सुशील सुघढ़ सुन्दर बहु की हसरत है (*_*)

      हटाएं

  4. तुषार राज जी ,यदि कुवांरा हो ,अपने मिसन पर ध्यान दो ,लोंन जरुर लो ,हमारी शुभकामनाएं
    latest post हिन्दू आराध्यों की आलोचना
    latest post धर्म क्या है ?

    जवाब देंहटाएं
  5. bahut sundar Hasya. Tushar ji maine pahle se hi aapka blog join kiya hua hai.

    जवाब देंहटाएं
  6. सब समझेंगे कि अनुभव का मारा है
    क्या जाने कि कवि अभी तक कुंवारा है
    भविष्य के लिए आशीर्वाद की जरुरत है
    सुशील,सुघढ़,सुन्दर बहु की मेरी हसरत है .... (*_*)

    शुभकामनायें !!

    सुघढ़ = पूरी तल्लीनता से करती है अपने सारे काम ...

    जवाब देंहटाएं
  7. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा शनिवार (30-3-2013) के चर्चा मंच पर भी है ।
    सूचनार्थ!

    जवाब देंहटाएं
  8. आप की कविता,"कभी-कभी मेरे दिल में ख्याल आता है"को पढ़ा मजा आ गया!क्या खूब लिखते हैं आप? जितनी भी तारीफ की जाये कम है।
    विन्नी

    जवाब देंहटाएं
  9. हर रंग को आपने बहुत ही सुन्‍दर शब्‍दों में पिरोया है, बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

    जवाब देंहटाएं
  10. आप की कविता,"कभी-कभी मेरे दिल में ख्याल आता है"को पढ़ा मजा आ गया!क्या खूब लिखते हैं आप? जितनी भी तारीफ की जाये कम है।
    विन्नी

    जवाब देंहटाएं
  11. लगे रहो प्यारे ... ;)


    आज की ब्लॉग बुलेटिन 'खलनायक' को छोड़ो, असली नायक से मिलो - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. शुक्रिया शिवम् भाई | बस अब तो मैं वापस आ गया | कल से बुलेटिन का हुल्लड़ शुरू |

      हटाएं
  12. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    आपके ख्यालात का जवाब नहीं!

    जवाब देंहटाएं
  13. जो बीबी की मार नही झेल सकता वो जिंदगी के थपेडे क्या झेलेगा? जिंदगी को ठीक से जीने के लिये आदमी की पीठ को लठ्ठ खाने की रियाज होनी चाहिये.:)

    पैरोडी जोरदार है.. ख्याल उतना बुरा भी नही है.:)

    रामराम.

    जवाब देंहटाएं
  14. बहुत खतरनाक ख्याल हो सकता है यह तुषार जी .... अगर बीवी के के कानों में पड जाए तो ... मजेदार प्रस्तुति!

    जवाब देंहटाएं
  15. हा हा. मज़ेदार प्रस्तुति.

    जवाब देंहटाएं

कृपया किसी प्रकार का विज्ञापन टिप्पणी मे न दें। किसी प्रकार की आक्रामक, भड़काऊ, अशिष्ट और अपमानजनक भाषा निषिद्ध है | ऐसी टिप्पणीयां और टिप्पणीयां करने वाले लोगों को डिलीट और ब्लाक कर दिया जायेगा | कृपया अपनी गरिमा स्वयं बनाये रखें | कमेन्ट मोडरेशन सक्षम है। अतः आपकी टिप्पणी यहाँ दिखने मे थोड़ा समय लग सकता है ।

Please do not advertise in comment box. Offensive, provocative, impolite, uncivil, rude, vulgar, barbarous, unmannered and abusive language is prohibited. Such comments and people posting such comments will be deleted and blocked. Kindly maintain your dignity yourself. Comment Moderation is Active. So it may take some time for your comment to appear here.