मंगलवार, जनवरी 12, 2021

Ghalib Ke Sher | Aashar-e-Ghalib | Mirza Ghalib Poetry | Mirza Asadullah...


Mohabbat meñ nahīñ hai farq jiine aur marne kā 
Usī ko dekh kar jiite haiñ jis kāfir pe dam nikle 

मोहब्बत में नहीं है फ़र्क़ जीने और मरने का 
उसी को देख कर जीते हैं जिस काफ़िर पे दम निकले 
------------------------------------------------------------------------
Maiñ ne majnūñ pe laḌakpan meñ 'asad' 
Sañg uThāyā thā ki sar yaad aayā 

मैं ने मजनूँ पे लड़कपन में 'असद' 
संग उठाया था कि सर याद आया 
------------------------------------------------------------------------
Karne gaye the us se taġhāful kā ham gila 
Kī ek hī nigāh ki bas ḳhaak ho gaye 

करने गए थे उस से तग़ाफ़ुल का हम गिला 
की एक ही निगाह कि बस ख़ाक हो गए 
------------------------------------------------------------------------
Kab vo suntā hai kahānī merī 
Aur phir vo bhī zabānī merī 

कब वो सुनता है कहानी मेरी 
और फिर वो भी ज़बानी मेरी 
------------------------------------------------------------------------
Aadhi raat ha ab wahan koi nahi hoga
Aao ghalib us ki dewar choom aate hain

आधी रात है अब वहाँ कोई नहीं होगा
आओ ग़ालिब उस की दीवार चूम आते हैं
------------------------------------------------------------------------

If you like the poetry, quotes and my channel please do like, share, comment and subscribe. 

Royalty Free Music from melodyloops.com : Cosmic Dream



#parkerfrontier #parkerquinkink #mirzaghalib #romusmajesticcutnibfountainpen #dollar717iqalam #fountainpen #camlinsd #fountainpenaddict #royalblueink #blackink #ghalibkesher #aashareghalib #asadpoetry #mirzaasadullahbaigkhan #mirzaurdushayari #mirzaghalibbest #ghalibkamaal #ghalibkerumanisher #ghalibshayaristatus #mirzaghalibpoetry #mirzaghalibshayariwhatsappstatus #mohabbatmeinnahihai #majnu #nigah #kahani #zabani #raat #deewar

गुरुवार, मई 28, 2020

ग़ज़ल

ग़ज़ल
------
होगी कब ख़त्म वबा* अब ये सवाल अच्छा है
इक बिरहमन ने कहा है कि ये साल अच्छा है //१

*महामारी
--------
सभी के चेहरों पे इज़हार न हाल अच्छा है
इक बिरहमन ने कहा है कि ये साल अच्छा है //२
--------
हनूज़* शहर में जो हुआ इश्तिआल* अच्छा है?
इक बिरहमन ने कहा है कि ये साल अच्छा है //३

*अभी,
*भड़काना / जोश दिलाकर मारकाट पर आमादा करना
--------
कभी तो आए अपने लहू में उबाल अच्छा है
इक बिरहमन ने कहा है कि ये साल अच्छा है //४
--------
गुनाह बाद गर हुआ गर्द-ए-मलाल* अच्छा है
इक बिरहमन ने कहा है कि ये साल अच्छा है //५

*पश्चाताप
--------
तिरे रूख़सार पर ये सियाह ख़ाल* अच्छा है
इक बिरहमन ने कहा है कि ये साल अच्छा है //६

*तिल
--------
तालाबंदी में तो हर सूरत-ए-हाल अच्छा है
इक बिरहमन ने कहा है कि ये साल अच्छा है //७
--------
लो उधारी न करो वापस ये ख़्याल अच्छा है
इक बिरहमन ने कहा है कि ये साल अच्छा है //८
--------
पाएमाल* हालात हैं दुनिया में क्या अच्छा है?
इक बिरहमन ने कहा है कि ये साल अच्छा है //९

*तबाह / तहस-नहस
--------
है याद वो हुस्न-ए-नज़र का कमाल अच्छा है
इक बिरहमन ने कहा है कि ये साल अच्छा है //१०
---------
ना तिजारत ना ज़ियारत क्या ये भी अच्छा है?
इक बिरहमन ने कहा है कि ये साल अच्छा है //११
---------
बाद मुद्दत आग़ोश में आई जाने जां अच्छा है
इक बिरहमन ने कहा है कि ये साल अच्छा है //१२
---------
हुआ है इश्क़ मुझे उन्हें भी उन्स है अच्छा है
इक बिरहमन ने कहा है कि ये साल अच्छा है //१३
----------
कुछ तो रिश्ता है हमारा उन से ये भी अच्छा है
इक बिरहमन ने कहा है कि ये साल अच्छा है //१४
-----------
ख़ुदापरस्त बनो करो सजदा ये ही अच्छा है
इक बिरहमन ने कहा है कि ये साल अच्छा है //१५
-----------
कमाओ सबाब करो मदद ये करम अच्छा है
इक बिरहमन ने कहा है कि ये साल अच्छा है //१६
-----------
ग़म सहकर भी खुश रहना ये मेयार* अच्छा है
इक बिरहमन ने कहा है कि ये साल अच्छा है //१७

*स्तर, ठहराव
-----------
- तुषार रस्तोगी 'निर्जन'


रविवार, मई 10, 2020

माँ का दिन

कौन सी चीज़ है जो यहाँ
नहीं मिलती,
सब कुछ मिलता है लेकिन
माँ नहीं मिलती,
माँ ऐसी होती है दोस्तों जो
ज़िन्दगी में फ़िर नहीं मिलती,
ख़ुश रखा करो उस माँ को
फ़िर देखो जन्नत कहाँ नहीं मिलती...
अम्मी जान का दिन मुबारक।
😍😘🤩😚🤗☺

#mothers_day #मातृदिवस #मदर्स_डे 

शुक्रवार, मई 08, 2020

तालाबंदी की मधुशाला


#तुषार #रस्तोगी #निर्जन #तमाशाएजिंदगी #हिंदी #जज़्बात #कविता #हास्य-व्यंग्य #तंज़-ओ-मज़ा #तालाबंदी #मधुशाला #सुरा #शराब #दारू #पियक्कड़ #बेवड़ा #facebook #instagram

गुरुवार, अप्रैल 30, 2020

ग़ज़ल - श्रद्धान्जलि

ये ग़ज़ल उन दो चमत्कारी किरदारों के नाम जो अपने जाने के बाद एक बहुत बड़ा ख़ालीपन इस दुनिया में छोड़ गए जिसे भर पाना नामुमकिन है। मरहूम अज़ीम अदाकार ॠषि कपूर और इरफ़ान ख़ान को हम सब अपनी यादों में संजोये रखेंगे। उन्हें रोते हुए नहीं एक ख़ूबसूरत मीठी सी मुस्कान के साथ विदा करते हैं। उनका काम हमेशा उन को इस फ़ानी दुनिया में अमर रखेगा। ईश्वर उन्हें जन्नत नशीन करें। ॐ शांति ॐ ।

ग़ज़ल

तिरा इक दिन अचानक से यूँ ही चले जाना
रूलाता है बहुत सबको यूँ वस्ते सफ़र जाना //१

कहानी हो गई है ख़त्म पर यारों रूको न तुम
मुमकिन हो कोई नई कहानी का लिखा जाना //२

रोएगा नहीं ये दिल तुम दोनों के बिछड़ने पर
मुझे आता है ग़म के सैलाबों में संभल जाना // ३

हो अनमोल तुम इतने ज़ाया तुमको करूँ कैसे
मुश्किल है यूँ सागर में मोती का मिल जाना //४

अश्क आसानी से अपने निकलने नहीं दूंगा
जाना ही है तो जाओ मगर हंसते हुए जाना //५

वस्ते सफ़र - बीच रास्ते / यात्रा का मध्य

- तुषार रस्तोगी 'निर्जन'

#irrfankhan #rishikapoor #restinpeace #condolences #urdu #nastaliq #facebook #instagram #tusharrastogi #nirjan #tamashaezindagi #Delhi #khatati #urdulover #urdushayari #urduadab #ghazal

😘😍🌹🚩🇮🇳🙏🏻🏵🌸🌷🌼🌻🌺💐❤😎🤗🙂



शनिवार, अप्रैल 25, 2020

ग़ज़ल

Pen - Pilot Animal Series Fine Point
Ink - Sulekha Turquoise Blue

पेश-ए-ख़िदमत है मेरी एक संजीदा कोशिश। उम्मीद कर रहा हूँ आप सभी को पसंद आएगी। ग़लतियों के लिए मा'ज़रत। आप के तब्सिरा का इंतिज़ार रहेगा।

ग़ज़ल

इक चेहरे पे कई चेहरे लगा रक्खे हैं
यूँ ज़माने से कई राज़ छिपा रक्खे हैं //१

अश्क आँखों में हैं और हँसी चेहरे पर
दर्द सीने में कई लाख दबा रक्खे हैं //२

गर्क हो जाएं ना कहीं अश्क जमीं पर गिरकर
इसलिए पलकों पे करीने से उठा रक्खे हैं //३

दौर-ए-जुनूँ को मेरे ख़्वाब समझ आएँगे
सोचकर यही इन आँखों में बसा रक्खे हैं //५

दे न पाएगा वक़्त कभी जिनके जवाब
तहें-दिल वो सवालात बचा रक्खे हैं //५

पार होगा ये सफ़ीना मेरा कैसे मौला
ज़ीस्त ने कई तूफान उठा रक्खे हैं //६

लौट के फिर कभी आ घर अपने 'निर्जन'
हमने ड्योढ़ी पे चिराग़ जला रक्खे हैं //७

तहें - गहराई
गर्क - सोख लेना
अश्क - आंसू
सफ़ीना - जहाज़, नाव, मरकब

- तुषार रस्तोगी 'निर्जन'

#urdu #khushkhati #nastaliq #urducalligraphy #facebook #instagram #tusharrastogi #nirjan #urdukhatati #tamashaezindagi #Delhi #khatati #urdulover #urdushayari #urduadab #ghazal

😘😍🌹🚩🇮🇳🙏🏻🏵🌸🌷🌼🌻🌺💐❤😎🤠🥰🤗🙂
.....................................................................................................



शुक्रवार, अप्रैल 24, 2020

ग़ज़ल हो गई - तंज़-ओ-मज़ा

मुशायरा इक जोड़ा ग़ज़ल हो गई
पेलम पेला निगोड़ा ग़ज़ल हो गई

काहिल-ओ-जाहिल दिखें क़ाबिल
किताब ख़ुद ही छपाए ग़ज़ल हो गई

कलजुग का खोता बन गया शायर
रेंका ढेंचू-ढेंचू और ग़ज़ल हो गई

लफ़्ज़ों को लपेटा जहाँ से समेटा
कूड़ा पढ़ता जा बेटा ग़ज़ल हो गई

वो उठाया वहाँ से न जानें कहाँ से
यूँ सुनाया दहाँ से ग़ज़ल हो गई

मिसरा बे-बहर शेर क़ातिल क़हर
और गढ़े जा रहा है ग़ज़ल हो गई

रदीफ़ तिलमिलाए क़ाफ़िए बिलबिलाए
करते हाय हाय हाय ग़ज़ल हो गई

ख़्याल अशआर में घोला वज़न न तोला
लो चिरकुट चमन की ग़ज़ल हो गई

चढ़ बैठा इक ऊपर कहे ख़ुद को सुपर
पांव नहीं उसके ब-बर लो ग़ज़ल हो गई

माईक पे बोला दबा दब मुँह खोला
बे-तरतीब घचोला लो ग़ज़ल हो गई

'निर्जन' की सुन लो फ़िल्मी धुन हो
तान लो फिर चकाचक ग़ज़ल हो गई

अदीबों का जोड़ा खा शिकंजी-पकोड़ा
जम के कर दी वाह-वाही ग़ज़ल हो गई

काहिल - आलसी, अलस, सुस्त, मंद / lazy, indolent
जाहिल - अज्ञानी / ignorant, illiterate, rude
क़ाबिल - इल्मदाँ, विद्वान / Able, Competent, Clever
खोता - गधा / donkey
दहाँ - मुँह / mouth
ब-बर - ज़मीन पर / on land
अदीबों - साहित्यकार, कलाकार / writer, literary figureartist

- तुषार रस्तोगी 'निर्जन'

#urdu #khushkhati #nastaliq #urducalligraphy #facebook #instagram #tusharrastogi #nirjan #urdukhatati #tamashaezindagi #Delhi #khatati #urdulover #urdushayari #urduadab #ghazal #tanzomazah

😘😍🌹🚩🇮🇳🙏🏻🏵🌸🌷🌼🌻🌺💐❤😎🤠🥰🤗🙂


बुधवार, अप्रैल 22, 2020

ग़ज़ल

ग़ज़ल

नौ-उम्र जज़्बात हैं जबीन-ए-पाक में
बाला-तर जज़्बात हैं दिल-ए-बेबाक में

फ़लक से देख क्यों बरस रहा है लहू?
खूँ रोता है, क्या वहाँ अफ़्लाक में?

आह! वस्ल-ए-यार किस सूरत करूँ?
उम्र हो रही है ज़ाया इन सवालात में

ज़िस्त है बे-नम बर्ग-ए-काह का ढेर
सुलगाओ आग ख़स-ओ-ख़ाशाक में

तुमने भी तो कोई कसर नहीं रक्खी
सुराख़ क्या कम हैं मेरे लिबास में?

ऐसा फ़़रेब-ए-हयात या रब ना दे
हम कहाँ हैं क़िस्सा-ए-लोलाक में 

ख़ाक ही इब्तिदा और इंतिहा है जब
क्यों न ख़ुद ही, ख़ुद को, मिला दूँ मैं ख़ाक में!

दम-क़दम कर दी तर्क़ अब मैंने 'निर्जन'
क्या ख़बर कितने अंदोह बैठे हों ताक में

जबीन-ए-पाक - साफ़ शुद्ध धार्मिक दिमाग़
नौ-उम्र - जवान
बाला-तर - बहुत ऊंचा
दिल-ए-बेबाक - निडर दिल
अफ़लाक - फ़लक़ / आसमान की जमा
ज़िस्त - ज़िन्दगी
बे-नम - सूखा
बर्ग-ए-काह - पत्तियाँ और तिनके
ख़स-ओ-ख़ाशाक - सूखी घास फूस
सुराख़ - छेद
लिबास - कपड़े
फ़़रेब-ए-हयात - ज़िन्दगी के धोखे
क़िस्सा-ए-लोलाक - आसमान के मालिक की कहानी
दम-क़दम - जीवन, मौजूदगी
तर्क़ - छोड़ देना
अंदोह - कष्ट, दुख

- तुषार रस्तोगी 'निर्जन'

#urdu #khushkhati #nastaliq #urducalligraphy #facebook #instagram #tusharrastogi #nirjan #urdukhatati #tamashaezindagi #Delhi #khatati #urdulover #urdushayari #urduadab #ghazal

😘😍🌹🚩🇮🇳🙏🏻🏵🌸🌷🌼🌻🌺💐❤😎🤠🥰🤗🙂
















मंगलवार, अप्रैल 21, 2020

वो भी क्या दिन थे

एक पुराना क़िस्सा याद आ गया। ये मेरे स्कूल के दिनों की बात है। दिल वाले दुलहनिया ले जाएँगे रिलीज़ हुई थी। लड़के काजोल पर उन दिनों जान छिड़कते थे। हम भी उन में से एक थे। हाॅस्टल में रहा करते थे। अब फ़िल्म कैसे देखी जाए। बाहर जाना मना था। तो सोच कर प्लान बनाया रात को रोल काॅल के बाद जब लाईटस बंद होंगी तब बंक मारकर दोस्तों के साथ फ़िल्म देखने जाएँगे। ख़ुराफ़ाती दिमाग़ तो शुरू से ही रहा है। तो बस रूम की खिड़की के सरिए काट दिए और बैडशीट की रस्सी बनाकर निकल लिए कमांडो।

मैनें DDLJ दोस्तों के साथ हाॅस्टल से बंक मार-मार कर लगातार दो महीने देखी। रात ९:३० का शो ९:४५ पर पहुँचना पूरी फ़िल्म देखना और वापस होस्टल में आना बड़ा रोमांचक लगता था। दिवार फांद कर, जंगल से होते हुए, मेरठ कैंट में से गुज़र कर सिटी तक पैदल पहुँचना अपने आप में एक नया तजुर्बा था। फ़िल्म का एक-एक डाॅयलाग रट चुका था। हर कलाकार की एंट्री और इग्ज़िट तक याद हो गई थी। रात वाला सिनेमा हाॅल का गार्ड जो टिकट चेकर भी था दोस्त के जैसा हो गया था। कितनी ही दफ़ा तो फ़्रन्ट स्टाल की टिकट लेकर बालकनी में बैठकर फ़िल्म देखी थी और कई बार बिना टिकट भी। सब गोपी की महरबानी। बस उसको एक रजनीगंधा और तुलसी खिलाना होता था। एक आद बार एक छुटकु पव्वा काम पैंतीस कर देता था।

शायद कुछ समय और देख पाते पर हाय री क़िस्मत एक दिन हाॅस्टल से निकल जाने के बाद जब पैदल सड़क से जा रहे थे तब हाॅस्टल में रहने वाले एक अध्यापक ने रास्ते में हमें पकड़ लिया। घोड़े की सी तेज़ी से सरपट वापस तो दौड़ गए और अपने अपने रूम में भी पहुँच गए पर उसके बाद जो हुआ वो भी एक यादगार क़िस्सा है। ठंड रखिए वो भी जल्दी ही साझा करूँगा।

अब इस तालाबंदी में मुझे वही हाॅस्टल वाली फील आने लगी है। काश आज भी बंक मारकर दोस्तों के साथ वो दिन वापस ला सकता। वो भी क्या दिन थे।


















#पुरानीयादें #DDLJ #वो_भी_क्या_दिन_थे #हाॅस्टल_लाईफ़ #लाॅकडाउन #तालाबंदी #कोरोना_क़हर

शनिवार, अप्रैल 18, 2020

ग़ज़ल

ग़ज़ल
-----------------------------------------------------------------------
शब-ए-हिज्र तो किसी तौर गुज़र जाएगी
रात गहरी है तेरी याद बहुत आएगी //१
-----------------------------------------------------------------------
मेरे होठों पे तेरा इश्क़ दहकता है अभी
इन सांसों में तेरा लमस महकता है अभी //२
-----------------------------------------------------------------------
मेरे सीने में तेरा नाम धड़कता है अभी
इन बाहों में तेरा हुस्न भड़कता है अभी //३
-----------------------------------------------------------------------
तेरी आवाज़ का एजाज़ है सिर्फ़ मेरे लिए
तेरे मल्बूस की ख़ुशबू है सिर्फ़ मेरे लिए //४
-----------------------------------------------------------------------
तेरी बाहें तेरा सू-बा-सू है सिर्फ़ मेरे लिए
तेरे गेसू तेरा गुल-रू है सिर्फ़ मेरे लिए //५
-----------------------------------------------------------------------
जान करने को मेरे पास बहुत कुछ है अभी
यूँ तो कहने के लिए ख़ास बहुत कुछ है अभी //६
-----------------------------------------------------------------------
इश्क़ हैरां है सर-ए-सहर-ए-सबा क्या होगा
मेरे क़ातिल तेरा अंदाज़-ए-वफ़ा क्या होगा //७
-----------------------------------------------------------------------
आज की रैन तो किसी तरह बीत जाएगी
कल की सुबह इक नया रंग-ए-वफ़ा लाएगी //८
-----------------------------------------------------------------------
सोचता हूँ कल तुझ से मुलाक़ात के बाद
हौसला-ओ-उम्मीद मेरी और संवर जाएगी //९
-----------------------------------------------------------------------
हुस्न आएगा और बस आके ठहर जाएगा
जीत होगी जब यार आग़ोश में आ जाएगा //१०
-----------------------------------------------------------------------
आह! ये लील तो जैसे-तैसे गुज़र जाएगी
कल यक़ीनन बराए नाम मेरे लिखी जाएगी /११
-----------------------------------------------------------------------
लमस - स्पर्श
एजाज़ - जादू, आदत
मल्बूस - लिबास, कपड़े
गेसू - ज़ुल्फ़
सू-बा-सू - यहाँ और वहाँ
गुल-रू - गुलाबी चेहरा
लील- रात

- तुषार रस्तोगी 'निर्जन'

#urdu #khushkhati #nastaliq #urducalligraphy #facebook #instagram #tusharrastogi #nirjan #urdukhatati #tamashaezindagi #Delhi #khatati #urdulover #urdushayari #urduadab #ghazal

🙏🏻🚩🇮🇳🌹🏵🌸💐🌻🌼🌺🙂










सोमवार, अप्रैल 13, 2020

ग़ज़ल

ग़ज़ल
......................................................................................
करते हैं इश्क़ मगर मेरा नाम नहीं लिख सकते
वो कौन हैं मेरे ये सर-ए-आम नहीं लिख सकते //१
......................................................................................
यूँ तो रोज़ करते हैं गुफ़तगू कई-कई घंटो मुझसे
इक ज़रा सा वक़्त वो मेरे नाम नहीं लिख सकते //२
......................................................................................
उन की अदायें कभी मेरी समझ में नहीं आतीं
वो क्या आंखों को कभी जाम नहीं लिख सकते //३
......................................................................................
कहते हैं तुम गर चाहो तो मेरा जहाँ ख़रीद लो
कहते हैं सब मगर बस दाम नहीं लिख सकते //४
......................................................................................
सोच रहा हूँ क्यों न अब मैं भी भुला दूँ उनको
वो तो चाह कर भी अंजाम नहीं लिख सकते //५
.......................................................................................
जितना इस इश्क़ ने मुझे कर दिया है अब तक
ख़ैर उतना भी मुझे बदनाम नहीं लिख सकते //६
.......................................................................................
- तुषार रस्तोगी 'निर्जन'
.......................................................................................














#urdu #khushkhati #nastaliq #urducalligraphy #facebook #instagram #tusharrastogi #nirjan #urdukhatati #tamashaezindagi #Delhi #khatati #urdulover #urdushayari #urduadab #ghazal

ग़ज़ल

ग़ज़ल
......................................................................................
ये दुनिया के लोगों से, क्यों आस लगाए रहता हूँ
अपनी मर्ज़ी का मालिक, मैं रौब जमाए रहता हूँ //१
......................................................................................
महफ़िल में शामिल रह कर, मैं रंग जमाता रहता हूँ
गुज़रे माज़ी के पन्नो पर, मैं ख़क उड़ाता रहता हूँ //२
......................................................................................
ये रस्ता मुझ से वाक़िफ़ है, मैं आता-जाता रहता हूँ
हाल सुनाना मुश्किल है, मैं शेर सुनाता रहता हूँ //३
......................................................................................
ये रस्म-ए-दुनिया-दारी है, मैं हाथ मिलाता रहता हूँ
ये आलम एक छलावा है, मैं जान छुड़ाता रहता हूँ //४
......................................................................................
परेशां होना बिमारी है, मैं फ़िकर जताता रहता हूँ
आने वाले हर लम्हे का, मैं जश्न मनाता रहता हूँ //५
......................................................................................
- तुषार रस्तोगी 'निर्जन'
......................................................................................














#urdu_khushkhati #nastaliq #urducalligraphy #urdu #calligraphyart #instagram #insta #tusharrastogi #urdukhatati #tamashaezindagi #Delhi #khatati #urdulover #urdushayari #urdulove #urduthoughts #urduadab #delhiurducalligraphy #nirjan #ghazal



मंगलवार, अप्रैल 07, 2020

ग़ज़ल १

ग़ज़ल
-------------------
रौशन हुआ है आज अक्स माहताब का
उतरा है मेरी रूह में जलवा शबाब का //१

उसकी अदाएँ मेरी नज़रों में बस गईं
आग़ाज़ था ये इश्क़ की पहली बहार का //२

बेनूर हो गया था जो तूफ़ानी बयार में
शबनम गिरी तो खिल उठा चेहरा दयार का //३

मुस्करा के 'निर्जन' इश्क़ की राह चल दिया
मंज़र जो देखा फ़लक़ पर उस आफ़ताब का //४

बीती हुई फ़स्ल की तक़लीफ़ों को भूल जा
अब आया है देख मौसम वस्ल-ए-यार का //५

- तुषार रस्तोगी 'निर्जन'















#urdu_khushkhati #nastaliq #urducalligraphy #urdu #calligraphyart #instagram #insta #tusharrastogi #urdukhatati #tamashaezindagi #Delhi #khatati #urdulover #urdushayari #urdulove #urduthoughts #urduadab #delhiurducalligraphy #nirjan

Instagram

सोमवार, अप्रैल 06, 2020

नज़्म: चाहता हूँ मैं

चाहता हूँ मैं 
-------------------
नज़रों के समंदर का ठिकाना चाहता हूँ मैं 
मुझे तुझ से मोहब्बत है बताना चाहता हूँ मैं //१

अब ज़ाया लगती है हर मौसम की शादाबी
तुझे अपनी सांसो में बसाना चाहता हूँ मैं //२

ये दिल धड़कता है मेरे दम से लेकिन 
तेरे इश्क़ से दुनिया सजाना चाहता हूँ मैं //३

ख़ुद से भी ज़्यादा तुझ में अक़िदत है
तेरे क़रीब आने का बहाना चाहता हूँ मैं //४

आशिक़ी जताने का ये मौक़ा अच्छा है
तुझे फ़क़्त इतना ही बताना चाहता हूँ मैं //५

शादाबी - सरसब्ज़, हरियाली
अक़ीदत - भरोसा

 - तुषार रस्तोगी 'निर्जन'

🚩🇮🇳🙏🏻🌹😍💐😘🌸🤩🏵🤗🌺😚🌻😙🌼😗🙏🏻🇮🇳🚩


#nastaliq #urducalligraphy #urdu #calligraphyart #instagram #insta #tusharrastogi #urdukhatati #tamashaezindagi #Delhi #khatati #urdulover #urdulanguage #urdushayari #urdulines #urdulove #urduzone #urduthoughts #urduadab #delhiurducalligraphy #facebook #nirjan







शुक्रवार, अक्तूबर 11, 2019

गुरुवार, जून 28, 2018

अर्ज़ किया है



















...
ज़िक्र करते हैं तेरा इस कदर अलफाज़-ए-'निर्जन'
दुनिया शायरी को मेरी जुनूँ-ए-इश्क़ कहती है आज

Zikr karte hain tera iss qadr alfaaz-e-'nirjan'
Duniya shayari ko meri junu-e-ishq kehti hai aaj

#yqdidi #tamashaezindagi #tusharrastogi #nirjan #इश्क़ #अलफाज़ #जुनूँ #शायरी #ज़िक्र

Follow my writings on https://www.yourquote.in/rastogi_tushar #yourquote

मंगलवार, नवंबर 28, 2017

शर अर्ज़ है

तुमसे लफ्ज़ों का नहीं 'निर्जन'
रूहानी-रूमानी रिश्ता है मेरा
तुम तो तहलील हो सांसो में
इबादत की ख़ुशबू की तरह


रविवार, नवंबर 19, 2017

हास्य-व्यंग्य अर्ज़ है

सिग्रेट, शराब, चरस, अफ़ीम, रम
नशा ज़िंदगी में कभी नहीं था कम
कुछ इस तरह 'निर्जन' निकला दम
एक हाथ में लोटा दूसरे हाथ में बम

#yqdidi #तुषाररस्तोगी #निर्जन  #तमाशा_ए_ज़िंदगी #नशाखोरी #नशामुक्ति #व्यंग्य 

Follow my writings on https://www.yourquote.in/rastogi_tushar #yourquote



क़समें वादे प्यार वफ़ा सब

[tusharrastogi] sings kasme wade pyar wafa by Manna Dey, what an incredible voice on StarMaker! StarMaker, 40,000,000+ music lovers are singing here! 

https://m.starmakerstudios.com/share?recording_id=549080634&share_type=more

#karaoke #sing #kasmewadepyarwafa #mannadey #tushar #rastogi #nirjan #tamashaezindagi #pran #upkaar #hindi #classic #song #music


शनिवार, नवंबर 18, 2017

O Saathi Re Tere Bina Bhi Kya Jeena

[tusharrastogi] sings O Saathi Re Tere Bina by Kishore Kumar, what an incredible voice on StarMaker! StarMaker, 40,000,000+ music lovers are singing here! 

O Saathi Re Tere Bina Bhi Kya Jeena

#hindi #bollywood #kishorekumar #osaathireterebina #tushar #rastogi #nirjan #tamashaezindagi #song

सोमवार, नवंबर 13, 2017

अर्ज़ किया है

जुगनुओं से क्या मिले हम भी चराग हो गए 
नाज़नीन दिलरुबा के दिल का ख्व़ाब हो गए 
यूँ तो अता किये उन्होंने नज़राने कई 'निर्जन'
कातिलाना इनायत से उनकी आबाद हो गए

#yqdidi #निर्जन #तुषाररस्तोगी #तमाशा_ए_जिंदगी #दिलरूबा #जुगनू #इश्क़ 

Follow my writings on https://www.yourquote.in/rastogi_tushar #yourquote


शनिवार, नवंबर 11, 2017

अर्ज़ किया है

तिश्नगी अपनी दानिस्ता नाआश्ना 'निर्जन' हुआ 
नुक्तादानी करके भी नाशिनास साबित हुआ 

तिश्नगी : लालसा, अभिलाष
दानिस्ता : जानते हुए
नाआश्ना : अजनबी
नुक्तादानी : बुद्धिमानी
नाशिनास= अज्ञानी

#yqdidi #निर्जन #तुषाररस्तोगी #तमाशा_ए_जिंदगी #तिश्नगी #अजनबी #अज्ञानी 

Follow my writings on https://www.yourquote.in/rastogi_tushar #yourquote


गुरुवार, नवंबर 09, 2017

अर्ज़ किया है

बेबस, बेकस, बेकार, बेकरार ऐसे क्यों हैं
ये लोग कुछ ज्यादा ही होशियार क्यों हैं
हर एक चेहरे पर एक मुखौटा है 'निर्जन'
इन लोगो के ज़हर में बुझे किरदार क्यों हैं

#तुषाररस्तोगी #निर्जन #तमाशा_ए_ज़िंदगी #लोग #मुखौटा #ज़हर #yqdidi 

Follow my writings on https://www.yourquote.in/rastogi_tushar #yourquote


बुधवार, नवंबर 08, 2017

ये ज़मी गा रही है

ये ज़मीं नहीं हम गा रहे हैं ;)

Pleae Click Here To Listen
 

#romantic #amitkumar #bollywood #yehzameengaarahihai #tusharrastogi #tamashaezindagi #hindi #song

 
[tusharrastogi] sings Yeh Zameen Gaa Rahi Hai by Amit Kumar, what an incredible voice on StarMaker!

StarMaker, breaking barriers with the universal language of music!

शुक्रवार, नवंबर 03, 2017

अर्ज़ किया है

इश्क़ परखने का हुनर, हम बख़ूबी जानते हैं
कौन है आशिक़-ए-बुताँ, हम बख़ूबी जानते हैं
आशिक़-ए-बे-दिल के, बैत-ए-आशिक़ाना में
कौन है फ़र्द-ए-बशर, हम बख़ूबी जानते हैं

आशिक़-ए-बुताँ - beauty lover
आशिक़-ए-बे-दिल - heartless lover
बैत-ए-आशिक़ाना - temple of love
फ़र्द-ए-बशर - unique human being

#yqdidi #निर्जन #तुषाररस्तोगी #तमाशा_ए_जिंदगी #इश्क़ #उर्दूशायरी #आशिक़

Follow my writings on https://www.yourquote.in/rastogi_tushar #yourquote

गुरुवार, नवंबर 02, 2017

अर्ज़ किया है

अबस बैठना बन गया अफ़सुर्दा होने का सबब 'निर्जन'
क़िस्मत भी कितनी बेरहम है इसने कहाँ लाकर पटका

अबस = बेकार
अफ़सुर्दा = उदासी
#yqdidi #निर्जन #तुषाररस्तोगी #तमाशा_ए_ज़िंदगी #किस्मत #बेरहम #अफ़सुर्दा 

Follow my writings on https://www.yourquote.in/rastogi_tushar #yourquote

अर्ज़ किया है

तेरी नादानीयों की इन्तेहा क्या ख़ूब है हमदम
तेरी इरफ़ान से 'निर्जन' यहाँ मौसम बदलते हैं

नादानियों : बचपना
इन्तेहां : सीमा
इरफ़ान : प्रतिभा

शुक्रवार, सितंबर 22, 2017

ज़रा सोचें

















मेरी एक फेसबुक मित्र ने यह व्यंग चित्र साँझा करते हुए इसका विरोध किया था और उनकी बात का समर्थन करते हुए मैं भी माता रानी का आहवान जोर से नहीं प्रेम और श्रद्धा के साथ करता हूँ। इसी के साथ राजू राजेश शुक्ल के बनाये इस व्यंग्य चित्र पर अपनी पुरज़ोर आपत्ति दर्ज करवाता हूँ और विरोध करता हूँ। मेरी बात शायद बहुत से लोगों को बुरी लग जाए, हो सकता है कई लोगों की जल जाए और वो राकेट बन जाएँ तथा कुछ लोग तो इस लेख के लिए मुझे धिक्कारने भी लग जायेंगे। शायद भाग्वाकरणी, धर्मांध और कट्टरवादी जैसी उपाधियों से सम्मानित भी करने लग जायेंगे। विपरीत राजनैतिक सोच वाले शायद यहाँ भी मोदी साहब को इस से जोड़ कर टीका टिपण्णी करने से बाज़ नहीं आयेंगे या अंधभक्त या कुछ और कहने लग जायेंगे तो कोई अचरज ना होग। आपने कबीरदास जी का ये दोहा तो पढ़ा-सुना ही होगा -

कंकर पत्थर जोड़ कर, मस्जिद लई बनाये
ता चढ़ मुल्ला बांग दे, क्या बहिरा हुआ खुदाय

तो बांग देने की ये प्रथा यहाँ से शुरू हुई और देखा-देखि हिन्दूओं ने भी मंदिरों में, पंडालों में, धर्म स्थलों में, गली मोहल्लों में ध्वनिविस्तारक यंत्रों का प्रयोग करना शुरू कर दिया। हालाँकि इनके प्रयोग पर कोई आपत्तिजनक बात नहीं थी जब तक इनकी कर्णफोडू आवाज़ से आम जनता को किसी तरह का कोई नुक्सान नहीं था परन्तु समय के साथ गली मोहल्लों के आवारा, निकम्मों और नाकारा मुर्गों ने इन आयोजनों को अपनी बेहूदगी की बांग और टांग दोनों देना शुरू कर डाला। हर एक त्यौहार होली, दिवाली, गणपति पूजन, नवरात्रे आदि जैसे श्रद्धा के मौकों पर अपनी बेहयाई का नंगा नाच शुरू कर दिया। तेज़ आवाज़ में डीजे बजने लगे, लाउडस्पीकर चलने लगे, छिछोरे गानों की तर्ज़ पर भजन-गीत-संगीत बजने लगे और मदिरापान कर लफ़नडर नाचने लगे। यहाँ तक की कुछ तो अपनी ख़ुद की फटी आवाज़ में माइक पर चिल्ला-चिल्ला कर जनता का खून पीने लगे। तो भाई मैं तो इतना ही कहना चाहूँगा के खरबूज़े को देखकर ही खरबूज़ा रंग बदलता है पर यदि किसी सड़े हुए खरबूज़े को देखकर रंग बदलोगे तो तुम भी सड़ोगे ही मेह्कोगे नहीं। सनातन धर्म में हाथ जोड़ श्रद्धा और शांति के साथ प्रार्थना करना सिखाया गया है चिल्ला चिल्ला कर आसमान सर पर उठाना नहीं।

परन्तु एक बात तो सर्वव्याप्त और सर्वविदित है इंसान भले ही इस कुकृत्य से विचलित हो जाये, आग बबूला हो जाएं, आपा खो दें परन्तु यह सब आँखों के सामने होता देखते हुए भी प्रभु की स्थापित प्रतिमा के चेहरे पर नितांत प्रसन्नता के भाव ही होते हैं। उनके होठों पर सदैव मुस्कान ही छलकती रहती है और इतना सहकर भी उनके आशीर्वाद का हाथ सभी प्रकार के झंडूपंचारिष्टों पर समान बना रहता है। फिर क्यों इनके जैसे कलाकार अभिव्यक्ति की छूट की आड़ में ऐसे वाहियात व्यंग चित्र बनाकर ख़ुद अपने ही धर्म का अपमान करने में लगे रहते हैं। एक तरफ़ तो घटिया मानसिकता वाले सेक्युलर वादी/वामपंथी/दो कौड़ी के मानवाधिकारवादी/ छद्म दिखावेबाज़ देश और धर्म दोनों की हर तरफ़ से ख़ूब बजाने पर तुले हुए हैं और उसपर छौंक लगाने का काम ऐसे कलाकार करते हैं। धिक्कार है ऐसी मानसिकता पर जो मातारानी को इतना असहाय दर्शाती है। मातारानी शक्ति की प्रतीक हैं। ऐसी छोटी-मोटी बातों से यदि वो विचलित होने लग गईं तो उन्हें माँ दुर्गा कौन कहेगा। वो जगत जननी हैं इससे ज्यादा पीड़ा और दर्द का एहसास तो माताएं प्रसव के समय बर्दाश्त करती हैं। यहाँ कलाकार ने माता के साथ नारी का भी मखौल बना कर रख दिया है। यदि उन्होंने ज़रा सी फूँक भी मार दी तो समझो विश्व में प्रलय आ जाएगी। लगता है ये महाशय चण्डिका और माँ काली को भूले बैठे हैं। 

मेरे अनुसार यहाँ देवी माँ के स्थान पर कोई प्रताड़ित साधारण मनुष्य होना चाहियें था और देवी माँ उस पर अपना आशीर्वाद बनाते हुए मुस्कुरा रही हैं ऐसा होना चाहियें था। मैं तो राजू से कहूँगा कि वो अपनी इस त्रुटी को सही करें और इस व्यंग चित्र को इन्टरनेट और सभी जगहों से हटा लें। आप ख़ुद ही अपने आराध्य का ऐसे अपमान क्यों कर रहे हैं? सवाल बस यही है - मातारानी ऐसी सोच वालों को सद्बुद्धि प्रदान करें, ऐसी मेरी मनोकामना है, बाकी तो सब मोह-माया है...ख़ुद की अक्ल लगाओ और ख़ुद ही जवाब पाओ। यदि आप समझदार हैं, तो समझे तो ठीक समझे। नहीं समझे तो समय आने पर समझ जाओगे, और यदि समझने की गुंजाइश शेष बची ही नही हो तो ज़ोर से बोलो जय माता दी - वो सबका भला करती हैं तुम्हारा भी करेंगी।

#जय_माता_दी
#तुषाररस्तोगी
#क्रन्तिकारी_सनातन_विचारधारा
#क्रोधितविरोध
#हर_हर_हर_महादेव
#कट्टर_हिन्दू
#व्यंगचित्र_हटाओ
#आलोचना

शुक्रवार, अगस्त 11, 2017

एक शेर


उनके अलफ़ाज़ देंगे हर क़दम पर हौसला
इश्क़ उनसे है 'निर्जन' का यही अब फैसला
वक़्त आने दे बता देंगे तुझे इश्क़ की इंतहा
हम अभी से क्या बताएं जो हमारे दिल में है

#वन्देमातरम #जीवन #तुषार #रस्तोगी #निर्जन #तमाशा_ए_जिंदगी #हिंदी #उर्दू #शायरी #इश्क़ #जज़्बात #वक्त #मोहब्बत #tamashaezindagi #tushar #rastogi #nirjan #life #hindi #urdu #shayari #YQbaba #YQdidi























बुधवार, जुलाई 26, 2017

उत्कंठा
























मैं, हर कविता को, एक प्रेमी की तरह,
अपने साथ मुलाक़ात करने ले जाता हूँ,
अपने शयनकक्ष में, अपने बिस्तर पर...

बड़ी आतुरता सुकून से रसपान करता हूँ,
व्याकुल अतिलोलुप की भाँती तेज़ी से,
उसके चेहरे को छू हथेलियों से थामता हूँ...

शब्दों की दरारों को, गले लगाता हूँ,
भावनाओं की हर स्नेही और उष्ण सांस,
'निर्जन', के कानों को उग्र सुनाई देती है...

बदन की ख़ुशबू जैसे, मंद बहते पन्ने,
गुनाहगार, स्वादिष्ट हस्तलिपि की,
मिठाई को चाटते रसीले पापी होंठ...

कोमल जीवन के, स्वाद से भरपूर,
जो कभी किसी को, पर्याप्त नहीं मिलता,
बेहद सरल, स्पष्ट, शालीनतापूर्वक वर्णित...

#तुषाररस्तोगी #निर्जन #उत्कंठा #हिंदी #कविता #ज़िन्दगी

एक शेर

सोमवार, मार्च 27, 2017

मोहब्बत होने लगी है



















लगता है मोहब्बत होने लगी है
ज़िन्दगी ये उनकी होने लगी है

चलते हैं साथ जिस रहगुज़र पर
जानिब-ए-गुलिस्ताँ होने लगी है

गुल-ऐ-विसाल है मुस्कान उनकी 
उफ़! जादा-ए-हस्ती होने लगी है

इश्क़ में उनके असीर हो गया हूँ
तौबा नज़र भी उनकी होने लगी है 

ख्वाबों में ही चाहे नींद मेरी अब
आगोश में उनके सोने लगी है

'निर्जन' है साहिल मंजिल वही है
ख़ुशबू में उनकी रूह खोने लगी है

लगता है मोहब्बत होने लगी है...

रहगुज़र - पथ
जानिब-ए-गुलिस्ताँ  - गुलाबों के बगीचे की तरफ़
गुल-ऐ-विसाल - मिलन के फूल
जादा-ए-हस्ती - ज़िन्दगी की राह
असीर - बन्दी
आग़ोश - आलिंगन

#तुषाररस्तोगी

सोमवार, फ़रवरी 06, 2017

सन्देश सदा ही देता है


















तृष्णा से बड़ा, कोई भोग कहाँ
सब पाने का लगा है, रोग यहाँ
अपने अपनों से क्या, बात करें
ख़ुदगर्ज़ हो गए, सब लोग यहाँ
पाषाणों में, जीवन को भरने की
कोशिश में, 'निर्जन' रहता है
हर पल जीवन, जी भर जीने का
सन्देश सदा ही देता है...

है अंत तुम्हारा, उस चिट्ठी में
जो है, ऊपर वाले की मुट्ठी में
अब मान भी जा, ज़िद पर ना आ
कोई रहा ना बाक़ी, इस मिट्टी में
फिर क्यों, लड़ने की चाहत में
तू पल-पल बलता रहता है?
हर पल जीवन, जी भर जीने का
सन्देश सदा ही देता है...

अब बाँध ज़रा, दिल को अपने
और थाम ज़रा, कल को अपने
अल्फ़ाज़ों को करके, मौन तेरे
और ढूंढ बचे यहां हैं, कौन तेरे
अब त्याग भी दे, इस अहम् को
जिसमें हर पल तू मरता रहता है
हर पल जीवन, जी भर जीने का
सन्देश सदा ही देता है...

#तुषाररस्तोगी #निर्जन #तमाशा-ए-ज़िन्दगी #हिंदी #कविता #सन्देश #जीवन #पीड़ा #तृष्णा #ख़ुदगार्ज़ #ज़िद #दिल #अल्फ़ाज़ #अहम्

गुरुवार, नवंबर 17, 2016

खुजली खांसी देश का दुश्मन























खुजली खांसी है, देश का दुश्मन
हाय! हाय!
अपने देश का दुश्मन
हाय! हाय!
खुजली खांसी है, देश का दुश्मन
हाय! हाय!
अपने देश का दुश्मन
हाय! हाय!

पी.एम्. और जनता - राज़ी
फिर भी ना माने - पाजी
पी.एम्. और जनता - राज़ी
फिर भी ना माने - पाजी
ये खुजली ना छोड़े, चल इसको फोड़े
ये बनने ना देगा देश को एक जुट मुकम्मल

देश को बेचे ना समझे
हाँ, ये देशद्रोही है समझे
देश के गद्दारों की ये
गोद में खेले
हाँ, मुंह जब भी खोले
ये,  घटिया ही बोले
हो जाए खुजली - हां जी
ख़ुदा को प्यारा - वाह जी
तब होगी दिल्ली की, खाना आबादी
सुलझ जाएगी पल में देश की उलझन
खुजली खांसी देश का दुश्मन
हाय! हाय!
मेरे देश का दुश्मन
हाय! हाय!
खुजली खांसी देश का दुश्मन
हाय! हाय!
मेरे देश का दुश्मन
हाय! हाय!

दैया रे दैया इसका हाल तो देखो
झूठे वादे कर, इसके सवाल तो देखो
अरे झांसे, धोखे, इसके बवाल तो देखो

अजी, कुछ बरसों में ऐसे
दाल कहाँ गलती है
अजी, कुछ बरसों में ऐसे
माल कहाँ मिलता है
सबको है मालूम, कैसे, कैसे
कैसे चंदे का ये माल जमा करता है
क्या हाल बताऊँ - अरे, हाँ हाँ हाँ हाँ हाँ जी
सबूत दिखाऊं - अरे, हाँ हाँ हाँ हाँ हाँ जी
पलटू है दोगला कैसा रंग गिरगिट सा बदले ऐसे
गद्दारों को ऐसे ही रुसवा करते हैं मियां खों खों

खुजली खांसी है, देश का दुश्मन
हाय! हाय!
अपने देश का दुश्मन
हाय! हाय!
खुजली खांसी है, देश का दुश्मन
हाय! हाय!
अपने देश का दुश्मन
हाय! हाय!

#तुषारराजरस्तोगी #खुजली #खांसी #पाजी #पैरोडी

रविवार, सितंबर 04, 2016

दिल-ए-नादां














दिल-ए-नादां देखता जा, ज़रा रुक तो सही
अभी इश्क़ होगा आबाद, ज़रा रुक तो सही

मजनू, महिवाल, फरहाद, सारे मरीज़-ए-इश्क़
आज होंगे सब कामयाब, ज़रा रुक तो सही

सजेगी डोली, महफ़िल-ए-हुस्न कद्रदां होंगे
ले देख, वो आई लैला, ज़रा रुक तो सही

सोहनी हो गई फ़िदा, मरहबा महिवाल पे 
शीरीं का होगा फरहाद, ज़रा रुक तो सही

ले वो आए रेशमा-शेरा, डाल हाथ में हाथ
ये दोनों भी हैं बेपरवाह, ज़रा रुक तो सही

देख अंजाम होगा यही, आरज़ू का तेरी, ए दिल
हौसला तू भी बनाए रख, ज़रा रुक तो सही

'निर्जन' क्या ख़ूब बनी जिंदगी तेरी इस नादां से?
चल करता जा पीछा, ना रुक, ज़रा रुक तो सही

#तुषारराजरस्तोगी #इश्क़ #दिल-ए-नादां #निर्जन

रविवार, अगस्त 14, 2016

असली स्वतंत्रता दिवस


















आज स्वतंत्रता दिवस है, पर,
दिल यह कहने को विवश है,
क्या यहाँ है सच्ची स्वतंत्रता?
हर पथ पर है बस परतंत्रता...

जन गण मन अधिनायक जय,
शायद यह है भी, या नहीं है?
परन्तु क्या ७० वर्षों बाद भी,
अपने देश की जय है? नहीं है...

बरसों बाद भी हर एक शख़्स,
परेशानियों से लड़ रहा है,
झूठी सामाजिक अराजकता से,
चुपचाप नाक़ाम भिड़ रहा है...

यहाँ की व्यवस्था बड़ी निराली है,
जो करती चाटुकारों की रखवाली है,
जो आँखों के रहते हुए भी अंधे हैं,
कान-ज़बां रखकर भी गूंगे-बहरे हैं...

विकास तो बख़ूबी हो रहा है,
पर मज़े उसके कौन ले रहा है?
और यदि नहीं हो रहा है, तो,
कौनसा कोई ज़िम्मेदारी ले रहा है...

यहाँ गलत कोई भी नहीं है, क्योंकि,
हर बाशिंदा यहाँ समझदार-सही है,
बस, अब बचा एक लम्बा इंतज़ार है,
उसका जो देश का सच्चा पालनहार है...

जो अपने साथ सबका ख़याल रखेगा,
जो किसी की भी नोक पर नहीं रहेगा,
अपनी बनाई सही नीतियों पर चलेगा,
और इस भारतवर्ष का भला करेगा...

वो व्यक्ति हम सबके भीतर ही है,
बस जगाना है अपने इमान को,
आग जलानी है अपने दिलों में,
बाहर निकलना है अपने बिलों से...

फिर यही आग मशाल बन जलेगी,
परवाज़ देगी अधूरे सपनो को 'निर्जन',
जो दफ़न हो गए हैं सड़ी राजनीति तले,
उस दिन होगा असली स्वतंत्रता दिवस...

#तुषारराजरस्तोगी #स्वतंत्रतादिवस #१५अगस्त #७०वर्ष #निर्जन #राजनीति

समस्त भारतवर्ष को तुषार राज रस्तोगी 'निर्जन' की तरफ़ से स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनायें

बुधवार, जुलाई 27, 2016

सुना है























सुना है कि बारिशों जैसी हो
कुछ कहो बरसती कैसी हो
मैंने यह सुना है दुनिया से
सावन की बूंदों जैसी हो

सुना है कि गुलाब जैसी हो
कुछ कहो ज़रा तुम कैसी हो
मैंने यह सुना है दुनिया से
शायर के ख़्वाबों जैसी हो

सुना है कि इश्क जैसी हो
कुछ कहो बहकती कैसी हो
मैंने यह सुना है दुनिया से
रूबाई-ए-खय्याम जैसी हो

सुना है कि शर्म जैसी हो
कुछ कहो नाज़ुक कैसी हो 
मैंने यह सुना है दुनिया से
छुईमुई की डाली जैसी हो

सुना है कि आदत जैसी हो
कुछ कहो सआदत कैसी हो
मैंने यह सुना है दुनिया से
बेहतरीन शराबों जैसी हो

सुना है कि चाँद जैसी हो
कुछ कहों कि कहां रहती हो
मैंने यह सुना है दुनिया से
पूनम की चाँदनी जैसी हो

सुना है कि शेरनी जैसी हो
कुछ कहो गरज के वैसी हो
मैंने यह सुना है दुनिया से
रानी लक्ष्मीबाई के जैसी हो

जानता हूँ कि तुम कैसी हो
'निर्जन' की कल्पना जैसी हो
कुछ नहीं है सुनना दुनिया से
जीवन में प्राणों के जैसी हो

सआदत - Prosperity, Happiness, Good Fortune

#तुषारराजरस्तोगी #कल्पना #निर्जन #इश्क़ #मोहब्बत #जज़्बात #दुनिया #सुनाहै  #जीवन #प्राण

शुक्रवार, जुलाई 08, 2016

एक शब्द
















सनक और जूनून
वासना और प्यार
अभीप्सा और देखभाल
तुम्हारी ग़ैरहाज़िरी खल रही है
तुम्हारे बारे में सोच रहा हूँ
और सब से बहुत ही ज़्यादा
हर एक तर्क से परे
है यह सारी सोच
ये प्यार जो जलता है
आग से भी ज्यादा गर्म
तपिश इसकी है जो
ज्वालामुखी से ज्यादा
ये इबादत है जो
बंदिश नहीं है
ये दर्द है जो
कम नहीं होता
ये पीड़ा है जो
कभी जाती नहीं है
ये वफ़ादारी है जो
सच में अंधी है
ये विश्वास है जो
हर किसी प्रकार से भिन्न है
ये है डर की भावना
श्रद्धा के साथ
कि यह व्यक्ति
शायद मेरा हो सकता है
मेरी आत्मा का आत्मसमर्पण
मेरा दिल तुम्हारा है
हमेशा के लिए
यह सब कुछ
सदा के लिए
संचित है
एक शब्द में
जिसे तुम शायद ही
समझ पाती हो
लेकिन शायद
कभी किसी दिन
तुम समझ जाओगी
यह एक शब्द:
'मोहब्बत - प्यार - इश्क़'

अभीप्सा - Longing

#तुषारराजरस्तोगी #निर्जन #एकशब्द #इश्क़ #प्यार #मोहब्बत #इबादत #समझ

बुधवार, जून 01, 2016

मोहब्बत हो ही गई है















जादू-अदा बा-ख़ुदा ख़ूब उसकी
बाग़-ए-इरम ज़िन्दगी होने लगी है

ऐतबार-ए-इश्क़ ऐसा है उसका
आलम-ए-दीवानगी होने लगी है 

नज़राना-ए-शोख़ी नज़र ख़ूब उसकी
अज़ीज़-ए-दिल उल्फ़त होने लगी है

गुल-ए-विसाल मासूमियत उसकी
दीवार-ए-ज़िन्दगी होने लगी है

हसरत थामे आँचल अब उसका
जानिब-ए-गुलिस्ताँ होने लगी है

चलते हैं साथ जिस रहगुज़र पर
अब जादा-ए-हस्ती होने लगी है

लुत्फ़-ए-तसव्वुर रहता है उसका
चाँदनी अब हर रात होने लगी है

फ़िराक़-ए-यार सोचते भी अब
दहशत सी दिल में होने लगी है

लगता है 'निर्जन' रूह्दारी करते
तुझको मोहब्बत हो ही गई है

बाग़-ए-इरम - जन्नत का बागीचा
ऐतबार-ए-इश्क़ - प्यार पर भरोसा
आलम-ए-दीवानगी - दीवाने की स्थिति
अज़ीज़-ए-दिल - दिल को प्रिय
गुल-ए-विसाल - मिलन का फूल
दीवार-ए-ज़िन्दगी - ज़िन्दगी का सहारा
जानिब-ए-गुलिस्ताँ  - गुलाबों के बागीचे की तरफ़
रहगुज़र - पथ
जादा-ए-हस्ती - ज़िन्दगी की राह
फ़िराक़-ए-यार - प्रियेतम से बिछड़ना
रूह्दारी - लुका छुपी

--- तुषार राज रस्तोगी 'निर्जन' ---

#इश्क़ #ग़ज़ल #तुषारराजरस्तोगी #निर्जन #रूह्दारी #मोहब्बत

रविवार, मई 22, 2016

यही तुम हो...यही मैं हूँ


 
















इस जीवन में कुछ बातें हैं
में जिन्हें बयां नहीं कर सकता
इस जीवन में कुछ रेज़गी* हैं
क्योंकि, सब समान नहीं रहता
इस जीवन में कुछ सपने हैं!
और लोग जो उन्हें जीते हैं
इस जीवन में कुछ अपने हैं!
और लोग जो उन्हें खो देते हैं

यही मैं हूँ! यही तुम हो!
यही हैं चीज़ें हम जो करते हैं!
यही है प्यार! यही है जीवन!
यही हैं चीज़ें हम जो चुनते हैं!
यही है ख़ुशी! यही है दर्द!
यही है जीवन जो हम
बिना शर्म जीते हैं!
यदि, सिर्फ़ तुम भी देख पाते
यह दुनिया, वैसी, जैसी मेरे लिए है

यही मैं हूँ!
यही तुम हो!

इस जीवन में एक समय था,
जब कई बार मैं रोया था
इस जीवन में कभी दिल ने,
ज़िन्दगी अधमरी महसूस की थी
इस जीवन में कुछ चीज़ें हैं!
जो मैं कभी साबित नहीं कर सकता
इस जीवन में ऐसी भी चीज़ें हैं!
बहुत सी चीज़ें, जो सच भी हैं!

यही मैं हूँ! यही तुम हो!
यही हैं चीज़ें हम जो करते हैं!
यही है प्यार! यही है जीवन!
यही हैं चीज़ें हम जो चुनते हैं!
यही है ख़ुशी! यही है दर्द!
यही है जीवन जो हम
बिना शर्म जीते हैं!
यदि, सिर्फ़ तुम यह देख पाते,
यह दुनिया, हमारे चारों ओर,
बिलकुल भी खाली नहीं है!

यही मैं हूँ!
यही तुम हो!

इस जीवन में कुछ लोग भी हैं,
जिन्हें ज़रुरत है...
इस जीवन में कुछ लोग भी हैं,
जो खून बहाते हैं...
इस जीवन में कुछ लोग भी हैं,
जिन से अभी मिलना बाक़ी है
इस जीवन में, ऐसे हालात भी हैं
जब तुम्हे बस लड़ना ही होगा!
इस जीवन में, ऐसे पल भी हैं,
जिनमें जो सही है बस
वही करना होगा...!

यही मैं हूँ! यही तुम हो!
यही हैं चीज़ें हम जो करते हैं!
यही है प्यार! यही है जीवन!
यही हैं चीज़ें हम जो चुनते हैं!
यही है ख़ुशी! यही है दर्द!
यही है जीवन जो हम
बिना शर्म जीते हैं!
और, यदि भरोसा है तुम्हे
तो तुम भी वो देख सकती हो
जो 'निर्जन' देखता है सदा!
आश्चर्य होता है कभी
कि यह दुनिया,
क्या से क्या हो सकती है?

यही तुम हो...
यही मैं हूँ...
यही ज़िन्दगी है...

 रेज़गी - परिवर्तन / Change

#तुषारराजरस्तोगी #निर्जन #परिवर्तन #जीवन #सपने #दर्द #सच #शर्म #दुनिया #तुम #मैं #ज़िन्दगी