लेख लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
लेख लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

शनिवार, मई 30, 2015

सोशल मीडिया वाले आशिक़







विंडो-ए-चैट में, आया नया बनफूल है,
हाय दिल मचल गया, तो मेरा क्या कुसूर है...

या फिर

मैं तेरा आशिक़ हूँ, तुझसे इश्क़ करना चाहता हूँ,
फेसबुक पर आकर मैं, डूब मरना चाहता हूँ...

या फिर

हम तो चोंचबाज़ हैं, सदियों पुराने,
हाय तू ना जाने, हाय तू ना माने,
हम तो चले आए हैं, तुझको बहकाने,
हाय तू ना जाने, हाय तू ना माने..

या फिर

दिल तो दिल है,
दिल को काबू,
क्या कीजे,
आ गया है,
तुम्ही पर बाबू,
क्या कीजे...

तो मेरे - जॉन जानी जनार्दन दोस्तों यही तो कहानी है आज के युग के ठसबुद्धि, मंदबुद्धि, स्वछंद विचारधारा वाले कुबुद्धिजीवी मनचलों के दिलों की भी।

"अरे...! हमार दिल है तुमसे क्या, तुम पर भी मचल सकता है और देखो तुम्हे भी रेस्पौंड तो करना ही होगा फिर तुम चाहे कोई भी हो, कहीं से भी हो, किसी की भी हो, कोई वांदा नहीं, बस नारी हो ना, यही बहुत है अपने लिए। मैं ना नहीं सुनूंगा - कहे देता हूँ। शीशे में तो तुम्हे मैं उतार ही लूँगा कैसे भी कर के, क्योंकि इतना रसूक और हुनर तो बना ही लिया है यहाँ आकर।"

जी हाँ मेहरबां, बिलकुल यही सोच तैयार हो रही है आजकल के उन नामर्द और दब्बू  सो कॉल्ड सेलेब्रिटी आशिक़ों के बीच जो महिलाओं को सिर्फ भोग की वस्तु मात्र समझते हैं और उनका शोषण करने का कोई भी मौका मिलने पर चूकना नहीं चाहते। फिर चाहे ज़रिया कोई भी क्यों ना हों इन्हें सब मंज़ूर है। शर्म, लाज, हया किस चिड़िया का नाम है? ये इन्होंने कभी ना तो सुना ही है ना इसके बारे में जानते हैं। इनको चौबीसों घंटे सिर्फ एक ही हुड़क लगी रहती है "टूट पड़ो" कैसे भी, कहीं भी - बस मिल जाए कोई। हवस की तलब ऐसे जानवरों के ह्रदय में बड़े गहरे में कुलबुलाती है। देह पाने और भोग करने की कसक इनकी सोचने की शक्ति को कसती जाती है । इन जैसों को बड़ी स्वाभाविक और कुदरती चाहत लगती है यह। कई तरह के विरोधाभासी अभावों के गलियारों में ही इनका दिल किलसता, बिलखता, चहल कदमी करता टहलता रहता है, और भूख का कीड़ा कहीं न कहीं हमेशा दिल-दिमाग में रेंगता ही रहता है। इनकी ख़ुमारी का मकोड़ा इनकी बेमतलब हसरतों की खुजली को इतना खरोंचता है कि उसके निशान गाहे-बगाहे इनकी शक्सियत में उभर ही आते हैं। ऐसे लोगों का समूचा तंत्र-प्रणाली सदा बिगड़ा और हिला ही रहता है। इनकी मानसिकता इनके जीवन पर हावी रहती है और हमेशा इनकी जीवन शैली को काम-भोग की इच्छा से प्रभावित करती रहती है। यह एक तरह के मानसिक रोगी होते हैं क्योंकि इनका मन, अस्तित्त्व, चरित्र, चित्त, बुद्धि, अहंकार, अन्नमय कोष, प्राणमय कोष और सोच कुछ भी इनके वश में नहीं होता। सब कुछ इनके हाथ से निकला हुआ होता है। इनके कामुक स्वभाव के भयंकर मनोविकार के ज़लज़ले में इनके विक्षिप्त व्यक्तित्व की चूलें हिल चुकी होती है। यह एकतरफ़ा आग में जलने वाले होते हैं। ऐसे प्लेटोनिक प्रेमी बड़े ही घातक साबित हो सकते हैं। कोई स्त्री यदि इनसे हंसकर बात कर ले तो इनकी इन्द्रियां तुरंत जागृत हो जाती हैं और यह अपने ही बनाए और बुने सपनो के तरंग-भाव के आवेग और आवेश में उड़ने लग जाते हैं। अपनी ही दलदली सोच में गोते लगाकर इनका पाव-डेढ़ पाव खून भी बढ़ जाता है। इनका एकतरफ़ा सो कॉल्ड रोमांस इनकी नज़र में परवान चढ़ने लग जाता है और यह अपने को उम्दा क्वालिटी का आशिक़ प्रोजेक्ट करने के लिए किसी के भी साथ बातचीत में अचानक से वेटिंग फॉर इट, आई वांट टू किस यू, आई लव यू, किस मी, वांट इट, गोइंग फॉर इट, ईटिंग, ईटन, नाऊ इन्सरटिंग, नाउ एजेक्टिंग और भी बहुत सी बेकार वाली अनाप-शनाप बकर-बकर करने लग पड़ते हैं जिससे इनकी दिमाग़ी कामोत्तेजकता शांत होने का एहसास देती है। आचरण के अनुसार कहें तो ऐसे लोगों के मन को अश्लीलता ने ऐसे कब्ज़ा लिया होता है कि शिलाजीत पे शिलाजीत, वयाग्रा पे वयाग्रा सटके जा रहे होते हैं और फिर भी इनके अन्दर अकाल बना रहता है, सूखी रेत से भरे रेगिस्तान में टहलते घूमते फिरते रहते हैं फिर भी - काम नहीं बनता। अजी हुज़ूर समझ जाइए संस्कृत वाला 'काम' - हिंदी वाला नहीं।...  ;)

मेरा ऐसा मानना है कि ऐसे लोग भीतर से खोखले और शोर करने वाले ढपोलशंख भर होते है। ये सारा जीवन एक मुखौटा पहन कर जीते हैं और ये सारा झमेला, झंझट, अच्छाई का नाटक, नौटंकी बस बिस्तर तक पहुंचने की ही कवायद है। कोई यदि इनसे बात करता है या दोस्त बनता है तो वो अपने मन को और खुद को ही बेवकूफ बनाता रहता है इनके जैसों की दोस्ती के नाम पर। वो समझ नहीं पाता कि यह पाखंड की गहरी साज़िश है, एक मासूम इंसान को बहकाने के लिए और उसकी मासूमियत से खिलवाड़ करने के लिए। मैं यह कहता हूँ कि यदि अंत में यही सब करने की मंशा होती है तो फिर इतना ड्रामा क्यों करते हैं बड़े मियां - जिगरा है तो खुल्लमखुल्ला अभिव्यक्ति कीजिये - इश्क़-रोमांस, अच्छाई-भलाई की बीमारी को एक साइड कीजिये और हिम्मत हौंसले के साथ अपने विचार सबके सामने रखिये। बिलकुल प्यार और दोस्ती की वही ख़ूबसूरत सी बीमारी जो अक्सर पागलपंती में तब्दील हो जाया करती है और जिसकी धज्जियाँ ऐसे लोग अपनी अहमकाना हरकतों उड़ाते हैं, जिन्हें ना तो इश्क़ का मतलब मालूम होता है ना दोस्ती का। असल ज़िन्दगी में तो फिर बड़े ही सड़ियल और अनरोमांटिक नेचर वाले होते होंगे ये - तो काहे बेकार में इतनी शेरो-शायरी करते हैं, कविताबाज़ी करते हैं, दिल जलाते हैं, किताबें छपवाते हैं, गाल बजाते हैं - साला पहले पता हो एंड रिजल्ट ऐसा निकलता है असल में तो इन जैसों को सीधा शुरू से 'बीड़ी जलाइले जिगर से गधे, जिगर मां बड़ी आग है ' और 'कभी कैच किया रे कभी छोड़ दिया रे' सुनकर जुतिया जाए और सर गंजा कर दिया जाए मार-मार कर।

इनके पास माया है, मोहिनी भी और ज़माने के सामने निजी जीवन में ये उनके नटखट हीरो बनकर रहते हैं पर वहीँ इनके भीतर तड़पता रहता है एक बड़ा सा अजगर जो किसी की भी सुन्दर-औसत तस्वीर, गोरी-काली-भूरी चमड़ी, मनमोहक आवाज़, खिलखिलाती हंसी, नव यौवन, मध्य आयु, अधेड़ उम्र की औरत फिर चाहे वो अकेली हो, किसी की बहन, बीवी, बेटी, माँ, भाभी आदि कुछ भी हो को अपने झांसे में लेने की फ़िराक में रहता है, निगलने की मंशा के साथ अपने मद की प्यास में लिप्त, चिपचिपी लार बार-बार, लगातार हर जगह टपकाता रेंगता फिरता है। उसकी निगाहें अपने शिकार को हर पर तलाशती रहती हैं और इसी ताक़ में रहती हैं कब, कैसे, किस तरह उसे अपने चंगुल में जकड़ कर दबोच सके। समाज के बीच वो एक प्रतिष्ठित पुतला बनकर निवास करता है, परन्तु अकेले में वो एक आदमखोर होता है जो सिर्फ औरतों को अपना शिकार बनाता है। आजकल की सोशल मीडिया टेक्नोलॉजी ने ऐसे आदमज़ात भेड़ियों का काम और भी आसां बना दिया है, फिर चाहे लिंक्डइन, फेसबुक, व्हाट्सएप, ट्विटर आदि कोई भी माध्यम हो महिलाएं बदतमीज़ी, शाब्दिक शोषण, बदसुलूकी, फितरेबाज़ी और भी ना जाने कौन कौन से तरीकों की परेशानी से अछूती नहीं रही हैं। हर पल दस में से नौ गिद्ध उन्हें दबोचने के लिए जाल बिछाए बैठे रहते है। दोस्ती करने के नाम पर अश्लीलता, फूहड़ता, निजी ज़िन्दगी में तांक-झाँक, शारीरिक लिप्सा, मानसिक शोषण और ऐसे ही कितने तरीको से उनकी आत्मा को आहत किया जाता है। कुछ तो यह सब ख़ामोशी से बर्दाश्त कर लेती हैं और कुछ विद्रोह कर ऐसे समाज के सम्माननीय लफंडरों का पर्दाफ़ाश करती नज़र आती हैं। मुझे गर्व होता है उन वीरांगनाओं पर जो ऐसी घटनाओं के पश्चात अपनी आवाज़ बुलंद करती हैं और ऐसे सामाजिक कीड़ों को उनके अंजाम तक पहुंचाती हैं।

यह एक बेहद गंभीर और चिंता का विषय है और मेरा ऐसा मानना है कि इसके लिए हम सबको मिलकर आवाज़ उठानी चाहियें और आगे ऐसी घटनाएँ कम से कम देखने-सुनने में आयें उसके लिए कुछ कड़े कदम उठाने चाहियें। जो लोग महिलाओं के साथ ऐसा अभद्र दुर्व्यवहार करते हैं उनका सोशल मीडिया से तो बहिष्कार करना ही चाहिए, उनका मुंह काला कर खच्चर पर सवारी करा कर, जूतों का हार पहना कर, काँटों से ताजपोशी कर सारे नगर में भी घुमाना चाहियें और ख़ास तौर पर उनके अपने परिवारजन के सामने उनका असली चेहरा लाकर उन्हें सरेआम नंगा करना चाहियें जिनकी आँखों में धुल झोंक कर वो आज तक ऐसे काम करते आए हैं। अभी कुछ समय पहले मैंने ऐसे ही पहलु पर चिंता व्यक्त करते हुए एक कविता का सृजन किया था वो आज आपके सामने प्रस्तुत कर रहा हूँ। उम्मीद करता हूँ मेरे इस लेख और कविता से कुछ प्रतिशत महिलाओं में तो जाग्रति का संचार होगा और वो अपने साथ होने वाली ना-इंसाफी और ऐसा ओछा व्यवहार करने वाले के खिलाफ मोर्चा खोलती नज़र आएँगी।

कविता पढ़ने के लिये कृपया इस लिंक पर क्लिक करें :

http://tamasha-e-zindagi.blogspot.in/2015/04/blog-post_13.html

शुक्रवार, सितंबर 20, 2013

यारी में ज़रा संभलना













आज के दिन जीवन में एक बार फिर से कुछ ऐसे कठिन मोड़ आये कुछ ऐसे अनुभव हुए जहाँ दिल, एहसास, जज़्बात और अपनेपन की परख ज़िन्दगी की कसौटी पर दम तोड़ती नज़र आई | एक ही क्षण में प्यार, मित्रता, मान और सम्मान जैसे पुकारे जाने वाले और दम भरने वाले शब्द और लोग जीवन के तराजू पर खुद को तौलते दिखाई देने लगे | एक ही रात में ऐसा हुआ कि अपने जीवन से दो ऐसे लोग जिन्हें सही मायने में अपना माना था, वह अपने ही निजी अनुभवों, दृष्टिकोण और अपनी अनोखी सोच के कारण साथ छोड़ कर जाने की बातें करने लगे | शायद एक तो चला ही गया | दूसरा भी तयारी में बैठा है |

हम भी चुप चाप नज़ारा देखे जा रहे हैं | कारण कुछ भी रहा हो अब अपना ह्रदय भी संवेदनहीन, पत्थर दिल और निर्मोही बन गया है | जिन्हें अपना माना उनके अचानक रास्ता बदल लेने से शायद कभी ये दुखता भी था परन्तु अब सिर्फ जाने वालों के लिए दुआएं देकर, मुस्करा कर चुप हो जाया करता है | ज़िन्दगी में एक तो आपके आंसुओं की और दूसरा दुख की कोई कीमत नहीं है | दूसरों की नज़र में ये हमेशा व्यर्थ ही होते हैं | आप इन्हें जितना अन्दर और अपने पास रखेंगे सुखी रहेंगे | क्योंकि इस पूँजी का मोल या तो आप स्वयं लगा सकते हैं जिन्होंने इसे जिया है और सामना किया है या सिर्फ वही व्यक्ति लगा सकता है जो सच में आपका अपना हो और आपको सच में समझता हो | सिर्फ कहने भर से और बड़े बड़े दावे करने से कोई दोस्त या अपना नहीं बना करता है | बीच राह साथ छोड़ने वालों से कैसा गिला शिकवा जिन्हें इस एहसास की कीमत का मोल ही न हो | जीवन ने यही सिखाया है कि

"जिसे जाना है उसे सदैव आज़ाद छोड़ दो, यदि वह सच में आपका है और आपकी किस्मत में है तो एक दिन वापस ज़रूर आएगा और यदि नहीं आता तो समझ लेना वह आपका कभी था ही नहीं"

ज़िन्दगी सभी को समय समय पर नया सबक सिखाती है | मैंने भी जीवन की पाठशाला में बहुत कुछ सीखा है | इसलिए बस जाने वालों से सिर्फ इतना कहूँगा कि यदि कोई गलती हुई हो तो क्षमा प्रार्थी हूँ | कहा सुना माफ़ करना | बजरंगबली आपके ऊपर अपना आशीर्वाद बनाये रखें | आप जीवन में उन्नति करें और प्रगति के पथ पर आगे बढ़ें | जीवन में ज़्यादातर सबको, सब कुछ नहीं मिला करता है | तो शायद मेरी ज़िन्दगी में भी दोस्तों और अपनों का साथ शायद नहीं लिखा है | इसलिए भगवान् जो दे रहे हैं और आगे जो भी देंगे उसी में खुश रहता हूँ | कहीं पढ़ा था मैंने एक बार, "चुप्पी सबसे अच्छी दोस्त है, कभी धोखा नहीं देती" इसलिए आज भी मौन हूँ |  पहले जब दिल दुखता था तब आंसू बनकर पिघलता था पर अब तो मुस्कान बनकर चमकता है | तो साब बस मन की व्यथा को अपने शब्दों में ढाल कर मंद मंद मुस्करा रहा हूँ और कुछ बचे कुचे आंसू भी खुद से छिपा रहा हूँ |

ऐ दिल धीरे चलना
दोस्ती में भरोसा
सोच के करना
जी बड़े धोखे हैं
बड़े धोखे हैं
इस यारी में
यार तू धीरे चलना
यारी में ज़रा
संभलना

क्यों हो रोते
अश्क़ छिपाए
ऐसे जीते हो
क्यों सब लुटाये
ये तो उनकी
नज़र का भरम है
लगते हो जो
तुम ही पराये
जी बड़े धोखे हैं
बड़े धोखे हैं
इस यारी में
यार तू धीरे चलना
यारी में ज़रा
संभलना

दोस्तों में
क्यों दिल लगाये
काहे मुफ्त में
दिल को दुखाये
नाम यारी जो
नाज़ुक बहुत है
आके दिल पे
फूटेंगे छाले
जी बड़े धोखे हैं
बड़े धोखे हैं
इस यारी में
यार तू धीरे चलना
यारी में ज़रा
संभलना

हो गई है जो
अपनों से अनबन
चुप देखा करे
बैठा 'निर्जन'
जीवन की ये
बातें अजब हैं
हो अकेला तो भी
क्या है उलझन
जी बड़े धोखे हैं
बड़े धोखे हैं
इस यारी में
यार तू धीरे चलना
यारी में ज़रा
संभलना

बस अब शायद इससे ज्यादा और कुछ नहीं लिखा जायेगा |

करो जो दोस्ती तो धोखा खाने का दम भी रखना
अपनों से मिलते हैं आंसू यह तोहफ़ा सर रखना
दिल से रोना कुछ बे-मुरव्वतों को याद करके
'निर्जन' ऐसा मौका ज़िन्दगी में साथ कम रखना

शुक्रवार, जुलाई 05, 2013

एक मुलाकत 'सच्चे बादशाह' के साथ

















अभी हाल ही में अमृतसर जाने का अवसर प्राप्त हुआ | अगर दुसरे शब्दों में बयां करूँ तो अचानक ही बैठे बैठे 'दरबार साहब- हरमिंदर साहिब' से बुलावा आ गया | तो बस उठे और चल पड़े कदम 'वाहे गुरु' को सीस नावाने | 'दरबार साहब' के समक्ष अपने को जब खड़ा पाया तो एह्साह हुआ के जीवन में सब कुछ कितना छोटा है, बेमानी है और मिथ्या है | कुछ एक ऐसी परिस्थितियां जिनमे इंसान अपने को कमज़ोर महसूस करने लगता है, हालातों का गुलाम होने लगता है और उस पर एक नकारात्मक सोच काबिज़ होने लगती है ये सब 'हुज़ूर साहब' के सामने कुछ भी नहीं हैं | उनके दर्शन करते ही एक नई स्फूर्ति, नया जोश, नई सोच, नया विश्वास, नई उमंग, नए विचार और जीवन संतुलन के प्रति नया दार्शनिक नजरिया उनके आशीर्वाद से आपके समक्ष दिव्यज्योति बन कर आपके आसपास के वातावरण को प्रकाशित करता है और जीवन जीने की नई शक्ति प्रदान करता है | 'सच्चे बादशाह' के दरबार के कोई कभी खाली हाथ नहीं जाता | मैंने भी अपने जीवन के कुछ क्षण उनके साथ वार्तालाप करने में और 'श्री गुरु ग्रन्थ साहिब' के दर्शन करने में व्यतीत किये और उनका जो जवाब मुझे मिला वो मैं आपके समक्ष प्रस्तुत कर रहा हूँ | मुझे लगा उन्होंने मेरे सवालों के जवाब कुछ इस प्रकार से दिए : 

पुत्र 
अपनी भटकन 
मुझे 
क़र्ज़ रूप में 
ही दे दो 
अपने 
मन मस्तिष्क 
का वो शून्य 
जिसमें तुम खो कर 
अपने आप को 
अस्तित्वहीन सा 
पाते हो 
जीवन की एक
गौरव भरी 
सजीव शक्ति 
उस क़र्ज़ के बदले 
मैं तुम्हे देता हूँ 
जिस को 
स्वीकारने पर 
तुम स्वयं 
एक नई दिशा 
बनाओगे 
चेतना स्फूर्ति
कर्म भरा जीवन 
तुम पाओगे 
एक निश्चित धरातल 
जिसमें भटकन का 
कोई स्थान नहीं होगा 
सिर्फ
अथाह कर्म का सागर 
यश और 
समृद्धि का एक रत्न 
उज्जवल आकाश 
निर्मल धारा
सूर्या का तेज 
चन्द्र की शीतलता 
तब तुम्हारा मेरा ऋण
पूरा होगा 
एक कुशल 
व्यापारी की भांति 
हम एक दुसरे के 
सच्चे मित्र होंगे

बस इतना सा कहा उन्होंने मुझसे और मैं माथा टेक कर उनका शुक्रिया अदा कर मुस्कराता हुआ उनसे मिलकर प्रसादी और लंगर  ग्रहण कर वापस चला आया | 

वाहे गुरु जी दा खालसा, वाहे गुरु जी दी फ़तेह | जो बोले सो निहाल 'सत श्री आकाल' | 

जैसे गुरु साहब ने मेरे ऊपर मेहर रखी वैसे ही सभी पर कृपा करते हैं | 

मंगलवार, अप्रैल 16, 2013

ऐ बी सी डी - अमरीका में बिगड़ा कन्फ्यूज्ड देसी


कुछ हिन्दुस्तानी लोग जब अमरीका या किसी और देश चले जाते हैं और जब वहां से वापस आते हैं तो देखिये उनके तौर तरीको और रवैयों के अन्दाज़ | पेश करता हूँ..

Always says, “Bless you”, whenever someone sneezes.
कोई छींक मरेगा तो तुरंत कहेंगे, 'ब्लेस यू' |

US-returned people use the word “bucks” instead of “Rs.”
अमरीका से भारत लौटे लोग 'रूपये' नहीं कहते 'बक्स' कहना शुरू कर देते हैं |

Tries to use credit cards in a road side hotel.
हाईवे के ढाबे पर खाना खाने के बाद 'क्रेडिट कार्ड' से पेमेंट करेंगे |

Drinks and carries mineral water and always speaks of being health conscious.
मिनरल वाटर पीना शुरू कर देंगे, पूछने पर बहाना बताएँगे के पेट ख़राब हो जाता है, तबियत बिगड़ जाती है |

Sprays deodorant so that he doesn’t need to take bath.
डीओडरैनट इस्तेमाल करना शुरू कर देंगे जिससे नहाना पड़े |

Sneezes and says ‘Excuse me’.
छींकेंगे और कहेंगे 'एक्सक्यूज़ मी'

Says “Hey” instead of “Hi”, ”Yoghurt” instead of “Curds”, ”Cab” instead of “Taxi”, “Trunk” of “Dicky” for a car trunk, ”Candy” instead of “Chocolate”,”Cookie” instead of “Biscuit” , ”got to go” instead of “Have to go”.
'हाई' को 'हे', 'दही' को 'योगर्ट', 'टैक्सी' को 'कैब', 'गाडी की डिक्की' को 'ट्रंक', 'चॉकलेट' को 'कैंडी', 'बिस्कुट' को 'कुकी', 'हैव टू गो' को 'गौट टू गो' बोलना शुरू कर देंगे |

Says “Oh” instead of “Zero”, (for 101, he will say One O One Instead of One Hundred One)
'जीरो' को '' कहना शुरू कर देंगे ( १०१ को 'एक सौ एक' की जगह 'वन वन' ) बोलेंगे |

Doesn’t forget to complain about the air pollution. Keeps complaining every time he steps out.
जब भी बहार जायेंगे हर बार हर जगह बार बार 'एयर पोल्यूशन' की बात करते नहीं थकेंगे |

Says all the distances in Miles (Not in Kilo Meters), and counts in Millions. (Not in Lakhs)
किलोमीटर भूल जायेगे मील में दूरी नापेंगे | लाख भूल जायेगे मिलियन में गिनेंगे |

Tries to figure all the prices in Dollars as far as possible (but deep inside multiplies by 44).
हर चीज़ के दाम डॉलर में लगायेंगे और अन्दर मन में उसे ५५ से गुणा करते रहेंगे |

Tries to see the % of fat on the cover of a milk pocket.
दूध की थैली के ऊपर सबसे पहले फैट परसेंटेज देखेंगे |

When he needs to say Z (zed), he never says Z (Zed), instead repeats “Zee” several times, and if the other person is unable to get it, then says X, Y Zee(but never says Zed)
'ज़ैड' को जान बूझ कर 'ज़ी' बोलेंगे | अगर कोई नहीं समझ पायेगा तो उससे एक्स, वाई ज़ी बोल कर बताएँगे पर 'ज़ैडनहीं बोलेंगे |

Writes the date in MM/DD/YYYY. On watching traditional DD/MM/YYYY, says “Oh! British Style!!!!”
तारीख़ को मंथ/डे/ईयर फॉर्मेट में लिखेंगे | अगर कहीं पुराना डे/मंथ/ईयर फॉर्मेट देख लेंगे तो कहेंगे, “ओह! ब्रिटिश स्टाइल!!!”

 Makes fun of Indian Standard Time and the Indian Road Conditions.
मौका मिलते ही इंडियन स्टैण्डर्ड टाइम और हिंदुस्तान की सड़कों का मजाक उड़ना शुरू कर देंगे |

Even after 2 months, complaints about “Jet Lag”.
आने के दो महीने बाद भी ‘जेटलैग’ से ग्रस्त रहेंगे |

Just to show off avoids eating spicy food.
दिखावे के लिए तीखा कहना खाने से परहेज़ करेंगे |

Tries to drink “Diet Coke”, instead of Normal Coke. Eats Pizza instead of Dosa.
‘नार्मल कोक’ की जगह ‘डाइट कोक’ पियेंगे | ‘डोसा’ की जगह ‘पिज़्ज़ा’ खायेंगे |

Tries to complain about anything in India as if he is experiencing it for the first time. Asks questions etc. about India as though its his first visit to India .
हिंदुस्तान की हर चीज़ के बारे में शिकायत करना शुरू कर देंगे जैसे परेशानी पहली दफा हो रही है | उट पटांग सवाल जवाब करने शुरू कर देंगे हिन्दुस्तान के बारे में जैसे पहली दफ़ा आये हों यहाँ |

Pronounces “schedule” as “skejule”, and “module” as “mojule”.
‘स्केड्यूल’ को ‘स्केज्यूल’ और ‘मोड्यूल’ को ‘मोज्यूल’ बोलना शुरू कर देंगे |

Looks suspiciously towards any Hotel/Dhaba food.
किसी भी होटल या ढाबे के खाने को शक की निगाहों से देखेंगे |

From the luggage bag, does not remove the stickers of the Airways by which he traveled back to India , even after 4 months of arrival.
लौटने के चार महीने बाद भी लगेज बैग से एयरवेज का स्टीकर नहीं छुटाएंगे जिससे भारत वापस आये हैं |

Takes the cabin luggage bag to short visits in India and tries to roll the bag on Indian Roads.
कैबिन लगेज को छोटी-मोटी यात्राओं पर चमकाने के लिए ले जायेंगे | हिन्दुस्तानी सड़कों पर बैग को रोल करके चलने लगेंगे |

Tries to begin any conversation with “In US ….” or “When I was in US…”
हर एक वार्तालाप शुरू करने से पहले कहेंगे, ‘जब मैं अमरीका में था...’ |

अब आप ही बताएं ऐसे कार्टूनों का क्या हो सकता है | यहाँ हिन्दुस्तान में अमरीकी आकर हिन्दुस्तानी सभ्यता और ज़बान सीख रहे हैं | और वहां कुछ अकलमंद लोग बाहरी फूहड़ता अपना कर अपने देश को नीचा दिखने में लगे हुए हैं | खुदा इन्हें अक्ल बक्शे |

सोमवार, अप्रैल 01, 2013

अपने ब्लॉग पर मेरी आखरी पोस्ट


सरकारी सूचना
-----------------------

सभी आम और ख़ास ब्लॉगर मित्रों तथा जनहित में जारी : -

सभी मित्रों को सूचित किया जाता है के ३० मार्च, शाम ब्लागस्पाट के मैनेजमेंट और इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी डिपार्टमेंट के सरकारी अधिकारीयों के बीच हुई बैठक ,वार्तालाप और भेंटवार्ता के नतीजे कुछ इस प्रकार हैं | सरकार द्वारा निर्णय लिया गया है और एक अध्यादेश पारित किया है जो ३१ मार्च, २०१३, रात १२ बजे, से लागू हो गया है | इसके अंतर्गत :

- ब्लागस्पाट.कॉम पर ब्लोग्गेर्स की बढती संख्या और सरकार की निंदा में लिखे हुए लेख, कविता, टिप्पणियां, दोहे, हाइकू, कुण्डलियाँ आदि को देखते हुए सरकार ने इस साईट को जल्द से जल्द बंद करने का आदेश पारित कर दिया है | 

- साईट पर अत्यधिक ट्रैफिक के आने की वजह से सरकार ने अपना प्रभाव बनाते हुए ब्लागस्पाट साईट को अपने शिकंजे में ले लिया है और इस पर १० करोड़ का जुरमाना लगा दिया है | 

- जो ब्लोग्गेर्स सरकार के विरोध में लिखना पसंद करते हैं उनकी सूची तयार कर उनपर सकत कार्यवाही करने की योजना बनाई जा चुकी है | 

- ३१ मार्च रात्रि १२ बजे के बाद से सभी तरह के ब्लोग्गेर्स पर ब्लॉग्गिंग करने की रोक लगा दी गई है | इस आदेश को ना मानने वालों के खिलाफ कानूनी कार्यवाही की जा सकती है जिसमें १ लाख रूपये जुरमाना अथवा १ वर्ष बामशक्कत क़ैद का प्रावधान है | 

- ब्लागस्पाट और फेसबुक को आपस में जोड़कर पोस्ट सोशल मीडिया पर पोस्ट करने वालों पर ज्यादा कड़ी कार्यवाही की जाएगी | 

- सरकारी बहु, सरकारी बेटी, सरकारी दामाद, सरकारी बच्चे, सरकारी नाती/पोती,  सरकारी मुलाजिम, सरकारी महकमे, सरकारी प्रसंशक अथवा स्वयं सरकार के बारे में कुछ भी लिखने वाले को ५ लाख रूपये का जुरमाना और २ वर्ष कठोर कारावास की सजा का प्रावधान तय पाया है | 

- फेसबुक, ट्विटर सरीखी सोशल मीडिया साइटों  को भी बैन करने की कवाय्तें शुरू की जा चुकी हैं | 

- जो लोग इन सभी विपदाओं से बचना चाहते हैं वे आने वाले चुनावों से पहले अपनी लेखनी में सिर्फ और सिर्फ सरकारी खानदान और सरकार का गुणगान करेंगे और सिर्फ सरकार के बारे में लिखेंगे | इसमें कवितायेँ, लेख, चाँद, हाइकू, ग़ज़ल, शेर इत्यादि शामिल हैं | 

- पसंद आने पर चयन की गई सर्वश्रेष्ट प्रविष्टि लिखने वाले को उचित इनाम और सरकारी भक्त के ख़िताब से नवाज़ा जायेगा | इसमें इनाम की राशि में २ लाख रूपये नकद, एक बिल्ला, एक प्रशंसा पत्र और सरकारी दामादों वाली खातिरदारी शामिल है | 

उपरोक्त सभी आदेशों का पालन न करने वाले के खिलाफ कठोर दंडात्मक कार्यवाही की जाएगी और उसे निम्बूपानी की सजा दी जाएगी जिससे उसका पेट साफ़ हो जाये और वो सरकार के साफ़ सुथरे प्रतिरूप को समझ सके और उसके बारे में आगे लिख सके | 

भाइयों मैं तो हैण्ड टू हैण्ड अभी से ब्लागिंग बंद कर रहा हूँ. इसे अप्रैल फूल समझने की गलती बिलकुल न करें वरना आपको पछताना पड़ सकता है | 

नमस्कार  
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.

.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.

.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.

.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.

.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
अप्रैल फूल बनाया तो तुमको गुस्सा आया :)

उल्लू बनाया ,बड़ा मज़ा आया ;)

रविवार, मार्च 10, 2013

महाशिवरात्रि की शुभकामनायें - नीलकंठ की जय


ॐ त्र्यम्बकम् यजामहे सुगन्धिम् पुष्टिवर्धनम् । उर्वारुकमिव बन्धनान् मृत्योर्मुक्षीय माम्रतात् ।।

बम बम भोले शम्भु | जय कारा भोलेनाथ का | हर हर महादेव | महाशिवरात्रि के अवसर पर आप सभी को हार्दिक शुभकामनायें और भोलेबाबा को कोटि कोटि चरणस्पर्श और नमन | मेरी ओर से प्रभु की वंदना में छोटा सा प्रयास |

ॐ निराकार एको देवो महेश्वरः
मृत्यु मुखाद गतम प्राणं ब्लादकक्षरक्षते

निरंजन निराकार महेश्वर ही एकमात्र महादेव हैं जो मृत्यु के मुख में गए हुए प्राण को बल पूर्वक निकाल कर उसकी रक्षा करते हैं | मार्कंड ऋषि का पुत्र मार्कंडेय अल्पायु था | ऋषियों ने उसको शिव मंदिर में जाकर महामृत्युंजय मंत्र जपने की सम्मति प्रदान की | मार्कंडेय ऋषियों के वचनों में श्रद्धा रखकर शिव मंदिर में महामृत्युंजय मंत्र का यथा विधि जाप करने लगे | समय पर यमराज आए किन्तु महामृत्युंजय की शरण में गए हुए को कौन छू सकता है | यमराज लौट गए | मार्कंडेय ने दीर्घायु पाई और मार्कंडेय पुराण की रचना भी की | 

ॐ मृत्युंजय महादेव 
त्राहिमाम शरणागतं
जन्म मृत्यु जरारोगई 
पीडितं कर्म बंधनई

हे मृत्युंजय महादेव! मैं सांसारिक दुविधाओं में फंसा हुआ हूँ | रोग और मृत्यु मेरा पीछा नहीं छोड़ रहे हैं | मैं आपकी शरण में हूँ | मेरी रक्षा कीजिये | महामृत्युंजय मंत्र महा मंत्र है | जिसके यथा विधि पारायण से, व्यक्ति, पापों से छूट कर सुख समृद्धि प्राप्त करता है | इस लोक में नाना प्रकार के कष्टों से, मृत्यु भय से, मुक्त होकर संपत्ति, रिद्धि सिद्धि प्राप्त करने का सरल उपाय महामृत्युंजय ही है |  

ॐ त्र्यम्बकम् यजामहे सुगन्धिम् पुष्टिवर्धनम् ।
उर्वारुकमिव बन्धनान् मृत्योर्मुक्षीय माम्रतात् ।।

महामृत्युंजय मंत्र by Tushar Raj Rastogi

ॐ - हे भोलेबाबा, हे शम्भुनाथ, त्र्यच्क्शुधारी अर्थात जिनके तीन नेत्र हैं सूरज, चंद्रमा और आग, वह शिव जो स्वयं सुगन्धित हैं और जो इस समस्त श्रृष्टि का पालन पोषण करते हैं, जिनकी हम सब अराधना करते है, विश्‍व मे सुरभि फैलाने वाले भगवान शिव हमें हमारे समस्त खेद, दुःख, पीड़ा, बीमारी, रोग, व्याधि, मर्ज़, दरिद्रता, दीनता, निर्धनता, अभावों, कमियों, ग़रीबी, परेशानी, बेचैनी, भय, खौफ़, आशंकाएं, डर, मृत्‍यु न की मोक्ष से हमें मुक्ति दिलाएं | अपना आशीर्वाद आप सदैव मेरे सर पर समृद्धि, सौभाग्य, प्रताप, यश, विजय, सफलता, दीर्घायु, ज्येष्ठता, स्वस्थता तथा आरोग्यता स्वरुप में बनाये रखें | मैं आपके समस्त नतमस्तक हो दंडवत प्रणाम करता हूँ |
आपके महामृत्युंजय मंत्र के वर्णो का अर्थ सभी को सरल शब्दावली में समझाने का तुच्छ प्रयास किया है |

महामृत्युंघजय मंत्र के वर्ण पद वाक्यक चरण आधी ऋचा और सम्पुतर्ण ऋचा-इन छ: अंगों के अलग अलग अभिप्राय हैं। ओम त्र्यंबकम् मंत्र के ३३ अक्षर हैं जो महर्षि वशिष्ठर के अनुसार ३३ देवताआं के घोतक हैं। उन तैंतीस देवताओं में ८ वसु ११ रुद्र और १२ आदित्यठ १ प्रजापति तथा १ षटकार हैं। इन ३३ देवताओं की सम्पुर्ण शक्तियाँ महामृत्युंजय मंत्र से निहीत होती है जिससे महा महामृत्युंजय का पाठ करने वाला प्राणी दीर्घायु तो प्राप्त करता ही हैं । साथ ही वह नीरोग, ऐश्व‍र्य युक्ता धनवान भी होता है । महामृत्युंरजय का पाठ करने वाला प्राणी हर दृष्टि से सुखी एवम समृध्दिशाली होता है । भगवान शिव की अमृतमययी कृपा उस निरन्तंर बरसती रहती है।

Here’s a word by word translation of the Mahamrityunjay Mantra in english as well:

om - "ek onkar"
tri-ambaka-m - “the three-eyed-one”
yaja-mahe - “we praise”
sugandhi-m - “the fragrant”
pusti-vardhana-m - “the prosperity-increaser”
urvaruka-m - “disease, attachment, obstacles in life, and resulting depression”
iva - “-like”
bandhanat - “from attachment Stem (of the gourd); but more generally, unhealthy attachment”
mrtyor - “from death”
mukshiya - “may you liberate”
ma - “not”
amritat - "realization of immortality"

बाबा के शिव रूप की जय,
कल्याण स्वरूपा - ॐ शिवाय नमः

बाबा के महेश्वर रूप की जय,
माया के अधीश्वर - ॐ महेश्वराय नमः

बाबा के शम्भु रूप की जय,
आनंद स्वरूपा - ॐ शम्भवे नमः

बाबा के पिनाकी रूप की जय,
पिनाक धानुष धारी - ॐ पिनाकिने नमः

बाबा के शशिशेखर रूप की जय,
शीश शशिधारी - ॐ शशिशेखराय नमः

बाबा के वामदेव रूप की जय,
अत्यन्त सुन्दर स्वरूपा - ॐ वामदेवाय नमः

बाबा के विरूपाक्ष रूप की जय,
भौंडे चक्शुधर - ॐ विरूपाक्षाय नमः

बाबा के कपर्दी रूप की जय,
जटाजूटधारी - ॐ कपर्दिने नमः

बाबा के नीललोहित रूप की जय,
नीले एवं लाल रंग धारी - ॐ नीललोहिताय नमः

बाबा के शर रूप की जय,
कल्याणकारी - ॐ शंकराय नमः

बाबा के शूलपाणि रूप की जय,
कर त्रिशुल धारी - ॐ शूलपाणये नमः

बाबा के खट्वी रूप की जय,
खाट का एक पाया रखने वाले - ॐ खट्वांगिने नमः

बाबा के विष्णुवल्लभ रूप की जय,
विष्णु प्रिय - ॐ विष्णुवल्लभाय नमः

बाबा के शिपिविष्ट रूप की जय,
सितुहा प्रवेशी - ॐ शिपिविष्टाय नमः

बाबा के अम्बिकानाथ रूप की जय,
माँ भगवती के स्वामी  - ॐ अम्बिकानाथा नमः

बाबा के श्रीकण्ठ रूप की जय,
सुन्दर कण्ठ वाले - ॐ श्रीकण्ठाय नमः

बाबा के भक्तवत्सल रूप की जय,
भक्त प्रेमी - ॐ भक्तवत्सलाय नमः

बाबा के भव रूप की जय,
सांसारिक स्वरूपा - ॐ भवाय नमः

बाबा के शर्व रूप की जय,
कष्ट प्रतिरोधक - ॐ शर्वाय नमः

बाबा के त्रिलोकेश रूप की जय,
त्रिलोक स्वामी - ॐ त्रिलोकेशाय नम:

शितिकण्ठ रूप की जय,
श्वेत कण्ठधारी - ॐ शितिकण्ठाय नमः

बाबा के शिवाप्रिय रूप की जय,
पार्वती प्रिय - ॐ शिवाप्रियाय नमः

बाबा के उग्र: रूप की जय,
अत्यन्त उग्र स्वरूपा - ॐ उग्राय नमः

बाबा के कपाली रूप की जय,
कपालधारी - ॐ कपालिने नमः

बाबा के कामारी रूप की जय,
कामदेव के शत्रु - ॐ कामारये नमः

बाबा के अन्धकासुरसूदन: रूप की जय,
अंधक दैत्य मर्दक -ॐ अन्धकासुरसूदनाय नमः

बाबा के गङ्गाधर रूप की जय,
गंगाधारी  - ॐ गंगाधराय नमः

बाबा के ललाटाक्षरूप की जय,
लिलार चक्शुधर - ॐ ललाटाक्षाय नमः

बाबा के कालकाल रूप की जय,
काल के काल - ॐ कालकालाय नमः

बाबा के कृपानिधि रूप की जय,
करुणामय - ॐ कृपानिधये नमः

बाबा के भीम रूप की जय,
भयंकर स्वरूपा - ॐ भीमाय नमः

बाबा के परशुहस्त रूप की जय,
फरसाधारी - ॐ परशुहस्ताय नमः

बाबा के मृगपाणी रूप की जय,
हिरणधारी - ॐ मृगपाण्ये नमः

बाबा के जटाधर: रूप की जय,
जटाधारी - ॐ जटाधराय नमः

बाबा के कैलाशवासी रूप की जय,
कैलास पर्वत निवासी - ॐ कैलाशवासिने नमः

बाबा के कवची रूप की जय,
कवचधारी - ॐ कवचिने नमः

बाबा के कठोर रूप की जय,
लौह्देहधारी - ॐ कठोराय नमः

बाबा के त्रिपुरान्तक रूप की जय,
त्रिपुरासुर मर्दक - ॐ त्रिपुरान्तकाय नमः

बाबा के वृषांक रूप की जय,
वृषभ चिन्ह झ्ण्डाधारी - ॐ वृषांकाय नमः

बाबा के वृषभारूढ रूप की जय,
वृषभ सवार - ॐ वृषभारूढाय नमः

बाबा के भस्मोद्धूलितविग्रह रूप की जय,
भस्म लेपक - ॐ भस्मोद्धूलितविग्रहाय नमः

बाबा के सामप्रिय रूप की जय,
सामगान प्रेमी - ॐ सामप्रियाय नमः

बाबा के स्वरमय रूप की जय,
सातो स्वरों निवासी - ॐ स्वरमयाय नमः

बाबा के त्रयीमूर्ति रूप की जय,
वेदरूपी विग्रह ज्ञाता - ॐ त्रयीमूर्तये नमः

बाबा के अनीश्वर रूप की जय,
स्वयंभू स्वामी - ॐ अनीश्वराय नमः

बाबा के सर्वज्ञ रूप की जय,
सर्वज्ञता - ॐ सर्वज्ञाय नमः

बाबा के परमात्मा रूप की जय,
सर्वोच्च आत्मा - ॐ परमात्मने नमः

बाबा के सोमसूर्याग्निलोचन रूप की जय,
चन्द्र, सूर्य और अग्निरूपी नेत्रधारी - ॐ सोमसूर्याग्निलोचनाय नमः

बाबा के हवि रूप की जय,
आहुति रूपी द्रव्यधारी - ॐ हवये नमः

बाबा के यज्ञमय रूप की जय,
यज्ञस्वरूपधारी - ॐ यज्ञमयाय नमः

ॐ नमः शिवाय | मेरे सभी मित्रगण, प्रियेजन, अप्रियजन,  दुश्मन, शुभचिंतक, अशुभचिंतक और समस्त संसार के पशु, पक्षी तथा प्राणियों को महाशिवरात्रि की हार्दिक शुभकामनायें | भोलेनाथ सभी पर अपनी कृपा सदैव बनाये रखें |

बम बम भोले नाथ....जय जय शिव शम्भू....जयकारा वीर बजरंगी का....हर हर महादेव

बुधवार, फ़रवरी 27, 2013

राष्ट्र हित मे आप भी जुड़िये इस मुहिम से ...


सन 1945 मे नेताजी सुभाष चन्द्र बोस की तथाकथित हवाई दुर्घटना या उनके जापानी सरकार के सहयोग से 1945 के बाद सोवियत रूस मे शरण लेने या बाद मे भारत मे उनके होने के बारे मे हमेशा ही सरकार की ओर से गोलमोल जवाब दिया गया है उन से जुड़ी हुई हर जानकारी को "राष्ट्र हित" का हवाला देते हुये हमेशा ही दबाया गया है ... 'मिशन नेताजी' और इस से जुड़े हुये मशहूर पत्रकार श्री अनुज धर ने काफी बार सरकार से अनुरोध किया है कि तथ्यो को सार्वजनिक किया जाये ताकि भारत की जनता भी अपने महान नेता के बारे मे जान सके पर हर बार उन को निराशा ही हाथ आई !
मेरा आप से एक अनुरोध है कि इस मुहिम का हिस्सा जरूर बनें ... भारत के नागरिक के रूप मे अपने देश के इतिहास को जानने का हक़ आपका भी है ... जानिए कैसे और क्यूँ एक महान नेता को चुपचाप गुमनामी के अंधेरे मे चला जाना पड़ा... जानिए कौन कौन था इस साजिश के पीछे ... ऐसे कौन से कारण थे जो इतनी बड़ी साजिश रची गई न केवल नेता जी के खिलाफ बल्कि भारत की जनता के भी खिलाफ ... ऐसे कौन कौन से "राष्ट्र हित" है जिन के कारण हम अपने नेता जी के बारे मे सच नहीं जान पाये आज तक ... जब कि सरकार को सत्य मालूम है ... क्यूँ तथ्यों को सार्वजनिक नहीं किया जाता ... जानिए आखिर क्या है सत्य .... अब जब अदालत ने भी एक समय सीमा देते हुये यह आदेश दिया है कि एक कमेटी द्वारा जल्द से जल्द इस की जांच करवा रिपोर्ट दी जाये तो अब देर किस लिए हो रही है ??? 

आप सब मित्रो से अनुरोध है कि यहाँ नीचे दिये गए लिंक पर जाएँ और इस मुहिम का हिस्सा बने और अपने मित्रो से भी अनुरोध करें कि वो भी इस जन चेतना का हिस्सा बने !
 यहाँ ऊपर दिये गए लिंक मे उल्लेख किए गए पेटीशन का हिन्दी अनुवाद दिया जा रहा है :- 

सेवा में,
अखिलेश यादव, 
माननीय मुख्यमंत्री
उत्तर प्रदेश सरकार 
लखनऊ 

प्रिय अखिलेश यादव जी,

इतिहास के एक महत्वपूर्ण मोड़ पर, आप भारत के सबसे युवा मुख्यमंत्री इस स्थिति में हैं कि देश के सबसे पुराने और सबसे लंबे समय तक चल रहे राजनीतिक विवाद को व्यवस्थित करने की पहल कर सकें| इसलिए देश के युवा अब बहुत आशा से आपकी तरफ देखते हैं कि आप माननीय उच्च न्यायालय की लखनऊ पीठ के हाल ही के निर्देश के दृश्य में, नेताजी सुभाष चंद्र बोस के भाग्य की इस बड़ी पहेली को सुलझाने में आगे बढ़ेंगे|
जबकि आज हर भारतीय ने नेताजी के आसपास के विवाद के बारे में सुना है, बहुत कम लोग जानते हैं कि तीन सबसे मौजूदा सिद्धांतों के संभावित हल वास्तव में उत्तर प्रदेश में केंद्रित है| संक्षेप में, नेताजी के साथ जो भी हुआ उसे समझाने के लिए हमारे सामने आज केवल तीन विकल्प हैं: या तो ताइवान में उनकी मृत्यु हो गई, या रूस या फिर फैजाबाद में | 1985 में जब एक रहस्यमय, अनदेखे संत “भगवनजी” के निधन की सूचना मिली, तब उनकी पहचान के बारे में विवाद फैजाबाद में उभर आया था, और जल्द ही पूरे देश भर की सुर्खियों में प्रमुख्यता से बन गया| यह कहा गया कि यह संत वास्तव में सुभाष चंद्र बोस थे। बाद में, जब स्थानीय पत्रकारिता ने जांच कर इस कोण को सही ठहराया, तब नेताजी की भतीजी ललिता बोस ने एक उचित जांच के लिए उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाया। अदालत ने उस संत के सामान को सुरक्षित रखने का अंतरिम आदेश दिया।

भगवनजी, जो अब गुमनामी बाबा के नाम से बेहतर जाने जाते है, एक पूर्ण वैरागी थे, जो नीमसार, अयोध्या, बस्ती और फैजाबाद में किराए के आवास पर रहते थे। वह दिन के उजाले में कभी एक कदम भी बाहर नहीं रखते थे,और अंदर भी अपने चयनित अनुयायियों के छोड़कर किसी को भी अपना चेहरा नहीं दिखाते थे। प्रारंभिक वर्षों में अधिक बोलते नहीं थे परन्तु उनकी गहरी आवाज और फर्राटेदार अंग्रेजी, बांग्ला और हिंदुस्तानी ने लोगों का ध्यान आकर्षित किया, जिससे वह बचना चाहते थे। जिन लोगों ने उन्हें देखा उनका कहना है कि भगवनजी बुजुर्ग नेताजी की तरह लगते थे। वह अपने जर्मनी, जापान, लंदन में और यहां तक कि साइबेरियाई कैंप में अपने बिताए समय की बात करते थे जहां वे एक विमान दुर्घटना में उनकी मृत्यु की एक मनगढ़ंत कहानी "के बाद पहुँचे थे"। भगवनजी से मिलने वाले नियमित आगंतुकों में पूर्व क्रांतिकारी, प्रमुख नेता और आईएनए गुप्त सेवा कर्मी भी शामिल थे।

2005 में कलकत्ता उच्च न्यायालय के आदेश पर स्थापित जस्टिस एम.के. मुखर्जी आयोग की जांच की रिपोर्ट में पता चला कि सुभाष चंद्र बोस की मृत्यु 1945 में ताइवान में नहीं हुई थी। सूचनाओं के मुताबिक वास्तव में उनके लापता होने के समय में वे सोवियत रूस की ओर बढ़ रहे थे।

31 जनवरी, 2013 में इलाहाबाद उच्च न्यायालय की लखनऊ पीठ ने ललिता बोस और उस घर के मालिक जहां भगवनजी फैजाबाद में रुके थे, की संयुक्त याचिका के बाद अपनी सरकार को भगवनजी की पहचान के लिए एक पैनल की नियुक्ति पर विचार करने का निर्देशन दिया।

जैसा कि यह पूरा मुद्दा राजनैतिक है और राज्य की गोपनीयता के दायरे में है, हम नहीं जानते कि गोपनीयता के प्रति जागरूक अधिकारियों द्वारा अदालत के फैसले के जवाब में कार्यवाही करने के लिए किस तरह आपको सूचित किया जाएगा। इस मामले में आपके समक्ष निर्णय किये जाने के लिए निम्नलिखित मोर्चों पर सवाल उठाया जा सकता है:

  1. फैजाबाद डीएम कार्यालय में उपलब्ध 1985 पुलिस जांच रिपोर्ट के अनुसार भगवनजी नेताजी प्रतीत नहीं होते।
  2.  मुखर्जी आयोग की खोज के मुताबिक भगवनजी नेताजी नहीं थे।
  3.  भगवनजी के दातों का डीएनए नेताजी के परिवार के सदस्यों से प्राप्त डीएनए के साथ मेल नहीं खाता।
वास्तव मे, फैजाबाद एसएसपी पुलिस ने जांच में यह निष्कर्ष निकाला था, कि “जांच के बाद यह नहीं पता चला कि मृतक व्यक्ति कौन थे" जिसका सीधा अर्थ निकलता है कि पुलिस को भगवनजी की पहचान के बारे में कोई स्पष्ट संकेत नहीं मिला।

हम इस तथ्य पर भी आपका ध्यान आकर्षित करना चाहते हैं कि न्यायमूर्ति मुखर्जी आयोग की जांच की रिपोर्ट से यह निष्कर्ष निकला है कि "किसी भी ठोस सबूत के अभाव में यह स्वीकार नहीं किया जा सकता कि भगवनजी नेताजी थे"। दूसरे शब्दों में, आयोग ने स्वीकार किया कि नेताजी को भगवनजी से जोड़ने के सबूत थे, लेकिन ठोस नहीं थे।

आयोग को ठोस सबूत न मिलने का कारण यह है कि फैजाबाद से पाए गए भगवनजी के तथाकथित सात दातों का डी एन ए, नेताजी के परिवार के सदस्यों द्वारा उपलब्ध कराए गए रक्त के नमूनों के साथ मैच नहीं करता था। यह परिक्षण केन्द्रीय सरकार प्रयोगशालाओं में किए गए और आयोग की रिपोर्ट में केन्द्र सरकार के बारे मे अच्छा नहीं लिखा गया। बल्कि, यह माना जाता है कि इस मामले में एक फोरेंसिक धोखाधडी हुई थी।
महोदय, आपको एक उदाहरण देना चाहेंगे कि बंगाली अखबार "आनंदबाजार पत्रिका" ने दिसंबर 2003 में एक रिपोर्ट प्रकाशित कि कि भगवनजी ग्रहण दांत पर डीएनए परीक्षण नकारात्मक था। बाद में, "आनंदबाजार पत्रिका", जो शुरू से ताइवान एयर क्रेश थिओरी का पक्षधर रहा है, ने भारतीय प्रेस परिषद के समक्ष स्वीकार किया कि यह खबर एक "स्कूप" के आधार पर की गयी थी। लेकिन समस्या यह है कि दिसंबर 2003 में डीएनए परीक्षण भी ठीक से शुरू नहीं किया गया था। अन्य कारकों को ध्यान में ले कर यह एक आसानी से परिणाम निकलता है कि यह "स्कूप" पूर्वनिर्धारित था।

जाहिर है, भारतीय सुप्रीम कोर्ट के पूर्व न्यायधीश, एम.के. मुखर्जी ऐसी चालों के बारे में जानते थे और यही कारण है कि 2010 में सरकार के विशेषज्ञों द्वारा आयोजित डी एन ए और लिखावट के परिक्षण के निष्कर्षों की अनदेखी करके,उन्होंने एक बयान दिया था कि उन्हें "शत प्रतिशत यकीन है" कि भगवनजी वास्तव में नेताजी थे।यहाँ यह उल्लेख करना प्रासंगिक होगा कि सर्वोच्च हस्तलेख विशेषज्ञ श्री बी लाल कपूर ने साबित किया था कि भगवनजी की अंग्रेजी और बंगला लिखावट नेताजी की लिखावट से मेल खाती है।

भगवनजी कहा करते थे की कुछ साल एक साइबेरियाई केंप में बिताने के बाद 1949 में उन्होंने सोवियत रूस छोड़ दिया और उसके बाद गुप्त ऑपरेशनो में लगी हुई विश्व शक्तियों का मुकाबला करने में लगे रहे। उन्हें डर था कि यदि वह खुले में आयेंगे तो विश्व शक्तियां उनके पीछे पड़ जायेंगीं और भारतीय लोगो पर इसके दुष्प्रभाव पड़ेंगे। उन्होंने कहा था कि “मेरा बाहर आना भारत के हित में नहीं है”। उनकी धारणा थी कि भारतीय नेतृत्व के सहापराध के साथ उन्हें युद्ध अपराधी घोषित किया गया था और मित्र शक्तियां उन्हें उनकी 1949 की गतिविधियों के कारण अपना सबसे बड़ा शत्रु समझती थी।

भगवनजी ने यह भी दावा किया था कि जिस दिन 1947 में सत्ता के हस्तांतरण से संबंधित दस्तावेजों को सार्वजनिक किया जाएगा, उस दिन भारतीय जान जायेंगे कि उन्हें गुमनाम/छिपने के लिए क्यों मजबूर होना पड़ा।

खासा दिलचस्प है कि , दिसम्बर 2012 में विदेश और राष्ट्रमंडल कार्यालय, लंदन, ने हम में से एक को बताया कि वह सत्ता हस्तांतरण के विषय में एक फ़ाइल रोके हुए है जो "धारा 27 (1) (क) सूचना की स्वतंत्रता अधिनियम (अंतरराष्ट्रीय संबंधों) के तहत संवेदनशील बनी हुई है और इसका प्रकाशन संबंधित देशों के साथ हमारे संबंधों में समझौता कर सकता है" ।

महोदय, इस सारे विवरण का उद्देश्य सिर्फ इस मामले की संवेदनशीलता को आपके प्रकाश में लाना है। यह बात वैसी नहीं है जैसी कि पहली नजर में लगती है। इस याचिका के हस्ताक्षरकर्ता चाहते है कि सच्चाई को बाहर आना चाहिए। हमें पता होना चाहिए कि भगवनजी कौन थे। वह नेताजी थे या कोई "ठग" जैसा कि कुछ लोगों ने आरोप लगाया है? क्या वह वास्तव में 1955 में भारत आने से पहले रूस और चीन में थे, या नेताजी को रूस में ही मार दिया गया था जैसा कि बहुत लोगों का कहना है।

माननीय इलाहाबाद उच्च न्यायालय की लखनऊ पीठ के न्यायमूर्ति देवी प्रसाद सिंह और न्यायमूर्ति वीरेन्द्र कुमार दीक्षित, भगवनजी के तथ्यों के विषय में एक पूरी तरह से जांच के सुझाव से काफी प्रभावित है। इसलिए हमारा आपसे अनुरोध है कि आप अपने प्रशासन को अदालत के निर्णय का पालन करने हेतू आदेश दें। आपकी सरकार उच्च न्यायालय के एक सेवानिवृत्त न्यायाधीश की अध्यक्षता में विशेषज्ञों और उच्च अधिकारियों की एक टीम को मिलाकर एक समिति की नियुक्ति करे जो गुमनामी बाबा उर्फ भगवनजी की पहचान के सम्बन्ध में जांच करे।

यह भी अनुरोध है कि आपकी सरकार द्वारा संस्थापित जांच -

  1. बहु - अनुशासनात्मक होनी चाहिए, जिससे इसे देश के किसी भी कोने से किसी भी व्यक्ति को शपथ लेकर सूचना देने को वाध्य करने का अधिकार हो । और यह और किसी भी राज्य या केन्द्रीय सरकार के कार्यालय से सरकारी रिकॉर्ड की मांग कर सके।
  2. सेवानिवृत्त पुलिस, आईबी, रॉ और राज्य खुफिया अधिकारी इसके सदस्य हो। सभी सेवारत और सेवानिवृत्त अधिकारियों, विशेष रूप से उन लोगों को, जो खुफिया विभाग से सम्बंधित है,उत्तर प्रदेश सरकार को गोपनीयता की शपथ से छूट दे ताकि वे स्वतंत्र रूप से सर्वोच्च राष्ट्रीय हितों के लिए अपदस्थ हो सकें।
  3. इसके सदस्यों में नागरिक समाज के प्रतिनिधि और प्रख्यात पत्रकार हो ताकि पारदर्शिता और निष्पक्षता को सुनिश्चित किया जा सके। ये जांच 6 महीने में खत्म की जानी चाहिए।
  4. केन्द्र और राज्य सरकारों द्वारा आयोजित नेताजी और भगवनजी के बारे में सभी गुप्त रिकॉर्ड मंगवाए जाने पर विचार करें। खुफिया एजेंसियों के रिकॉर्ड को भी शामिल करना चाहिए। उत्तर प्रदेश कार्यालयों में खुफिया ब्यूरो के पूर्ण रिकॉर्ड मंगावाये जाने चाहिए और किसी भी परिस्थिति में आईबी स्थानीय कार्यालयों को कागज का एक भी टुकड़ा नष्ट करने की अनुमति नहीं दी जानी चाहिए।
  5. सुनिश्चित किया जाना चाहिए कि भगवनजी की लिखावट और अन्य फोरेंसिक सामग्री को किसी प्रतिष्ठित अमेरिकन या ब्रिटिश प्रयोगशाला में भेजा जाये.
हमें पूरी उम्मीद है कि आप, मुख्यमंत्री और युवा नेता के तौर पर दुनिया भर में हम नेताजी के प्रसंशकों की इस इच्छा को अवश्य पूरा करेंगे |

सादर
आपका भवदीय
अनुज धर
लेखक "India's biggest cover-up"

चन्द्रचूर घोष
प्रमुख - www.subhaschandrabose.org और नेताजी के ऊपर आने वाली एक पुस्तक के लेखक |

तुषार राज रस्तोगी

रविवार, फ़रवरी 24, 2013

श्री राम सेतु को बचाने के लिए आवाज़ उठायें



जय श्री राम, जय बजरंगबली महाराज,  हर हर महादेव, जय कारा वीर बजरंगी का, जय माँ भारती, बम बम भोले  |  जय हिन्दू महाराष्ट्र | भारत माता की जय |

घटिया राजनीति की परिचायक कांग्रेसी सरकार का एक और नंगा सच | सत्रह लाख वर्ष पहले श्री राम और उनकी सेना द्वारा बनाया गया राम सेतु तोड़ने की साजिश पर कायम है केंद्र सरकार | ये घटिया सरकार भगवान् राम के बनाये इस सेतु को तोड़कर सेतुसमुंद्रम परियोजना का निर्माण करने पर अड़ गई है | और इस कुकृत्य को करने हेतु इस दो कौड़ी की सरकार ने सर्वोच्च नयायालय से कहा है के ८२९ करोड़ रूपये खर्च करने के बाद इस परियोजना को बंद नहीं किया जायेगा | अपनी इस घ्रणित और ओछी हरकत के सही बताते हुए सरकार ये दलील देती फिर रही है के उनकी यह परियोजना आर्थिक और पर्यावरण के लिहाज़ से एक दम सही है | इससे घिनौने पाप को पूर्ण करने की मंशा में उन्होंने वैकल्पिक मार्ग के लिए गठित पर्यावरणविद श्री आर के पचौरी समिति की सिफारिशों को भी नकार दिया है और इस समिति को खारिज करने का फैसला किया है | 

सुप्रीम कोर्ट में दायर किये गए हलफनामे में जहाजरानी मंत्रालय ने कहा है के भारत सरकार ने बहुत शीर्ष स्तर के शोध के आधार पर परियोजना को शुरू किया है | परियोजना को पर्यावरण मंत्रालय से भी मंज़ूरी दी है | पर्यावरण के शीर्ष संस्था नीरी ने भी परियोजना को आर्थिक और पारिस्थितिक तौर से ठीक करार दिया है | 

हलफनामे में कहा गया है के सेतुसमुंद्रम परियोजना सहित पचौरी समिति ने अपनी रिपोर्ट में वैकल्पिक मार्ग को साफ़ तौर पर नकार दिया है | समिति ने कहाँ था की ये परियोजना आर्थिक और पर्यावरण की दृष्टि से सही नहीं है | 

आखिर यह घटिया परियोजना है क्या ? श्री राम द्वारा बनाये इस सेतु के टूटने से किसी को क्या लाभ हो सकता है ? हमारे भारत का विभीषण और फिरंगी एजेंट इस परियोजना को पूरा करवाने के लिए इतना लालायित क्यों है ? इसके पीछे एक बहुत बड़ा रहस्य छिपा हुआ है | अब आपको बताता हूँ के इसके पीछे क्या कारण है और रहस्य है |

१९९८ में जब भारत ने परमाणु बम ब्लास्ट किया था जो फिरंगियों के कलेजे में आग लग गई थी और उसने भारत को युरेनियम देना बंद कर दिया था | इसके आलावा फिरंगियों ने भारत की कम्पनियों को अमरीका में घुसने पर रोक लगा दी थी | इसके बाद अचानक से इन फिरंगियों ने भारत को युरेनियम देने को मान लिया | 

जब जोर्ज बुश भारत आया था और एक सिविल नुक्लेअर डील पर हस्ताक्षर किये गए थे | जिसके अनुसार फिरंगी भारत को युरेनियम-२३५ देने की बात कर रहे थे | उस समय सारा खरीदा हुआ मीडिया इस फिरंगी एजेंट की तारीफें करना नहीं थक रहा था पर इसके पीछे जो मकसद था और जो असल स्वार्थ की कहानी थी वो किसी को नहीं बताई थी | 

भारतीय वैज्ञानिक कई वर्षों से ये खोजने में लगे हुए हैं के युरेनियम के अतिरिक्त और कौन कौन से रेडियोएक्टिव इंधन हमारे पास हैं जिनसे हम नुक्लेअर बम और बिजली बना सकते हैं | एटॉमिक एनर्जी कमीशन के ६००० से ज्यादा वैज्ञानिक पिछले 40 साल से इस खोज में जुटे हुए हैं | खोज के दौरान उन्हें मालूम चला के तमिलनाडु, केरल के समुंदरी इलाकों में भारी मात्रा में ऐसे रेडियो एक्टिव इंधन मौजूद हैं जिससे आने वाले १५० सालों तक बिजली बनाई जा सकती है और परमाणु बम और दुसरे उपयोगों में भी लाया जा सकता है | आगे आने वाले समय में भारत को किसी के आगे हाथ फैलाने की ज़रुरत नहीं होगी | डाक्टर  कलाम  ने स्वयं कहा था के ३ लाख मेगावाट बिजली हर घंटे अगले २५० साल तक हम बना सकते हैं क्योंकि हमारे पास ऐसे स्रोत मौजूद हैं | यह बात उन्होंने अपने एक इंटरव्यू में कही थी | 

अब इस लालची फिरंगी देश की नज़र हमारे इसी खजाने पर है | वो चाहता है के वो भारत के इस इंधन के खजाने पर कब्ज़ा कर ले और इसके बदले में वो भारत को थोड़ी बहुत मात्र में युरेनियम दे दे | अपनी इस गन्दी मंशा को पूरा करने के लिए उसने भारत में अपने कुछ एजेंट तैनात कर दिए हैं जो उसका काम निकलने में उसकी मदद कर रहे हैं और हमारे देश को खोखला करने में लगे हुए हैं | 

इस काम को अंजाम देने के लिए मौनी सिंह या चुप्पा सिंह को नौकरी पर लगाया गया है | जो पिछले कई वर्षों से सरकार में बैठ कर हमारे देश को जोंक की तरह चूस रहा है | इस गूंगे सिंह ने करुणानिधि और टी आर बालू  के साथ मिलकर ये प्लान बनाया है के भगवान श्री राम की सबसे बड़ी निशानी श्री राम सेतु को तोड़ा जाए और मलवा अमेरिका को बेचा जाये | 

हमारे भारतीय साइंटिस्ट्स का ऐसा भी कहना है के इस सेतु धनुष कोटि के तल में ७ तरह के रेडियो एक्टिव एलेमेंट्स हैं | जो सिर्फ भारत की निजी संपत्ति हैं | और ये भारत की प्रगति के उपयोग में ही आने चाहियें | और अमरीका की गन्दी नज़र इन्ही खनिजों के खजाने पर है | और उसके भारत में बैठे ये एजेंट इसी ताक में है के कैसे इस खजाने को लूट कर इसे भारत से बहार बेच दिया जाये | सेतु को तोड़ने का असफल प्रयास एक बार पहले भी हो चुका है | और अब  यह गंदे लोग नए प्लान के साथ आए हैं | सेतु को युनेस्को जैसी बाहरी संस्था के हवाले करने को आतुर हैं |

महामहिम कोर्ट में केस आज भी चल रहा है और हर बार नई तारीख़ पड़ रही हैं | पर इससे इस घटिया सरकार पर और उसके इरादों पर कोई फर्क नहीं पड़ रहा | चुप्पा सिंह और उसके चमचे कहते हैं के ये सेतु भगवान् श्री राम चन्द्र ने नहीं बनाया ! श्री राम तो एक कल्पना हैं ! श्री राम कभी हुए ही नहीं हैं !


कितनी शर्म की और दुःख की बात है के हिंदुस्तान में रहते हुए हिन्दुस्तानियों की आस्था के साथ खिलवाड़ हो रहा है और हिन्दू इतनी बड़ी बात सुनकर भी शांत हैं | जबकि नासा जो की एक अमरीकी एजेंसी है उसने रामसेतु की पुष्टि कुछ साल पहले अपनी रिपोर्ट में की है | आज भी समुन्द्र में ऐसे पत्थर है जिन पर राम नाम लिखा हुआ है और वो पानी में तैरते नज़र आ जायेंगे | इसके सबूत आपको नीचे दिए गए  विडियो लिंक्स में मिल जायेगा |

श्री गुरु ग्रन्थ साहिब में भी ५५००० से ज्यादा बार श्री राम नाम का उल्लेख मिलता है और अपने धर्म के नाम पर धब्बा ये चुप्पा सिंह ऐसे घटिया बातें करने पर लगा हुआ है | भाई राजीव दीक्षित ने सन १९९७ में ही इस मौनी सिंह को फिरंगियों का एजेंट घोषित कर दिया था जो भारत को और भारत की संस्कृति को अंग्रेजों के पैरों तले रौंदने के लिए सरकार में बैठा है | इन सभी बातों के स्पष्ट प्रमाण आप नीचे दिए विडियो लिंक्स में भी देख सकते हैं | 

अगर आपको ऊपर लिखी श्री राम सेतु को तोड़ने की बातों को कोई  मज़ाक समझा जा रहा है तो एक बार कृपया नीचे दिए गए विडियो लिंक्स अवश्य देखें | मेरी हाथ जोड़ कर सभी हिन्दुस्तानियों से यही गुज़ारिश है के कृपया आगे आयें और इस घोर अनर्थ को होने से रोकें | नीचे दिए विडियो लिंक्स हर एक भारतवासी को इस बात से अवगत कराएँगे और इस तरह हर भारतवासी जान पायेगा के श्री राम सेतु सिर्फ हिन्दुओं की आस्था का ही केंद्र नहीं बल्कि भारत की परमाणु क्षमता युरेनियम, थोरियम और भी कई रेडियो एक्टिव खनिजों का खज़ाना भी है इसलिए सभी धर्म के लोग जो भारत को एक विकसित राष्ट्र देखना चाहते हो मैं निजी रूप से भी उनका आवाहन करता हूँ  के वो सभी अपनी आवाज़ उठायें और एक जुट हो कर श्री राम सेतु को बचाने के लिए आगे आयें | कृपया सहयोग दें और अपने राष्ट्र को इन दरिंदों से निजत दिलाएं | सभी भारतीय भाइयों से विनम्र निवेदन है कि क्यों ना आप किसी भी धर्म, मजहब से हो परन्तु ये राम सेतु सिर्फ हिन्दुओ कि आस्था नहीं बल्कि सम्पूर्ण भारत के सांस्कृतिक इतिहास का प्रतीक है | अगर तथ्यों को लेकर सोचें और गौर करें तो प्राचीन काल में न जाने कितने राष्ट्र भारत वर्ष में ही सम्मिलित थे | इसे एक सांप्रदायिक विषय ना समझ सांस्कृतिक भारत की धरोहर समझ कर इस बचाने का प्रयास करें।


जय श्री राम, जय बजरंगबली महाराज,  हर हर महादेव, जय कारा वीर बजरंगी का, जय माँ भारती, बम बम भोले  |  जय हिन्दू महाराष्ट्र | भारत माता की जय |

बुधवार, जनवरी 30, 2013

Deep as the sea

Deep as the sea, deeper than the abyss, further than the ocean. Limits are limitless. Abound I find shore. To close to reach land. Land is distant, distant as the stars in the night filled with crowded spectra or a culmination of stars. Profound as my inner emotion that claims no restrain except when beleagured by humans that claim no identity nor will to live. I derail into a smudgery of unexpressed notion that coexists amongst people I love. Why must I express, this to live and survive. Never did a man look back at his sorrows or unrestrained passion to love, live and learn until one set out to decompass his side. Further than his side he survives to crawl on ocean, land and prevail amongs his no believers and people who choose not to love him nor care. He is strong, he is deep, his side no one knows, as to know this would be to be stronger than will, stronger than man, stronger than who we are.

To know you know me is not enough. For I am deep, deeper than you once thought i was. You express no emotions, I express no regret. Together we comfort each other. I only know joy when I server you or make you happy. When I feel your inner passion you make me a part of you that does not go unnoticed. Life is like a puzzle sometimes we embelish on absolute nonsense until we realize time has taken us by surprise. Yet time has no beginning nor end it is a block of space that we claim and accept as per your pretty woman, I often think about you not knowing how profound you really are. I bask in your lips and succumb to you arms and there I find a peaceful ground owes me to be a person. Allows me to be a part of something bigger.

बुधवार, जनवरी 16, 2013

तो क्या होता?

दिसम्बर बलात्कार घटना को बीते अब तकरीबन महीना हो गया | इस पूरे वक्फे के दौरान मैंने समाचार चैनलों  पर, ब्लोग्स पर, अकबारों में, लोगों के मुख से और न जाने कहाँ कहाँ से काफी कुछ पढ़ा और सुना | सबकी अपनी अपनी राय और अपने नज़रिए से अनोखे विचार थे | श्रधांजलि देने का और हादसे पर अपने विचार प्रकट करने का सबका अपना एक अनोखा तरीका था | कितने तो मोमबत्तियां जलने में लगे थे, मार्च पास्ट निकाले जा रहे थे, कहीं गिटार बजा कर दुःख जताया जा रहा था, कुछ बैनर पर टिप्पणियां लिख कर दिखाने में लगे थे, कहीं हाथ पर काले कपडे बांध कर दुःख जताया जा रहा था, कहीं मौन व्रत लिए लोग चुप चाप धरने दे रहे थे, तो कहीं कोई बाबा कुछ बकार रहे थे, तो कहीं नेता अपने आने वाले चुनाव की रणनीति को ध्यान में रखते हुए कुछ विशेष रूप के नाटक करने और टिप्पणियां देने में जुटे हुए थे | इन सब बातों और घटनाक्रम के बीच मैं अपने घर पर बैठा कुछ नहीं कर रहा था सिर्फ सोच रहा था, कुछ ख्याल और सवाल बार बार मेरे मन में दस्तक दिए जा रहा था | वो सब इतने अजीब थे के पहले तो मैं उन्हें अनदेखा करता रहा फिर आख़िरकार जब मुझसे रहा नहीं गया तो मैंने अपने दिल से हार मान कर के उन्हें यहाँ आपके सामने प्रस्तुत करना ही ठीक समझा | शायद कुछ जवाब, कुछ विशेष ख्याल और सुझाव सुनने और पढने को मिल जाएँ । वो ख्याल और सवाल जो उठते हैं कुछ इस प्रकार से हैं :

  1. यदि आज हमारा समाज पुरुष प्रधान न होकर स्त्री प्रधान होता तो क्या होता ?
  2. यदि पुरुष निर्बल और दुर्बल कहलाता और स्त्री सर्वशक्तिमान तो क्या होता ?
  3. मोटे तौर पर पूछूँ तो आज जहाँ पुरुष खड़ा है वहां अगर स्त्री खडी होती समाज में तो क्या होता ?
  4. क्या ऐसी घिनोनी घटनाएँ पुरुषों के साथ भी होती? होतीं तो क्या होता ?
  5. क्या पुरुषों का बलात्कार होता ? यदि होता तो क्या होता ?
  6. क्या पुरुषों को भी सही वस्त्र पहन कर घर से निकलने की हिदायतें दी जातीं ?
  7. क्या रात-बे-रात बहार निकलने से पहले पुरुषों को सोचना पड़ता ? डरना पड़ता ?
  8. क्या पुरुष अपनी माँ, बहन, बेटी, बीवी के साथ ही महफूज़ महसूस करते ? रात को यदि उन्हें कहीं जाना होता तो वो इनमें से किसी न किसी को साथ लेकर ही बहार जाते ?
  9. क्या कोई बाबा पुरुषों को ऐसी सलाह देता के, “यदि उसका बलात्कार होते समय वो किन्ही २-३ महिलाओं को बहन या माँ पुकार कर मदद मांग लेता तो शायद उसके साथ अन्याय कम होता”?
  10. क्या कोई नेता या कोई किसी भी दल का मुखिया ये कहता के, “पुरुषों को मोबाइल नहीं रखने चाहिए और निक्कर, टी-शर्ट, बनियान आदि भड़कीले कपडे नहीं पहनने चाहियें | ऐसी भड़काऊ वेशभूषा से ही उनपर ऐसे यौन अत्याचार होते हैं | वो सामने वाले को मजबूर करते हैं उनके साथ ऐसा करने के लिए | उन्हें पूरे ढके हुए वस्त्र पहन कर घर से निकलना चाहियें” | क्या ऐसी बयानबाजी होती ?
  11. बसों में, रेल में, सार्वजानिक भीड़भाड़ वाले इलाकों में या कहीं भी सट कर चलना, बैठना, बात करना या खड़े नहीं होना चाहियें | क्या पता कोई आकर उन्हें छेड़ दे या मर्दों के साथ ईव-टीजिंग न हो जाये |
  12. क्या पुरुषों के लिए भी इतनी ही पाबंदियां, दोगलापन और ओछापन दिखाई देता समाज में जितना आज स्त्रियों के लिए दिखाई पड़ता है ?
  13. पुरुषों को घर संभालना चाहियें । वो बच्चे पलने और खाना बनाने के लिए ही हैं । बहार का काम तो स्त्री की ज़िम्मेदारी है । यदि ऐसा सुनने को मिलता तो क्या होता ?
  14. क्या उस समाज में स्त्रियाँ भी पुरुषों से तफरी लेतीं, फितरे कसती, सीटियाँ मारतीं, चिकुटी काटतीं, इशारे करतीं ?
  15. क्या पुरुष बार में नाचते और महिलाएं उनपर पैसे उड़ातीं ?
  16. यदि पुरुषों द्वारा मुजरे और देह व्यापार करवाया जाता तो क्या होता ?
  17. क्या बार में जाकर शराब पीने वाले पुरुषों को बदचलन, आवारा और चरित्रहीन करार दे दिया जाता ?
  18. और कहीं पुरुष पुलिस के पास शिकायत करने चला जाता तो क्या उससे ऐसे ही ज़िल्लत झेलनी पड़ती जैसे आज नारी को झेलनी पड़ती है ?
  19. क्या स्त्रियाँ पुरुषों को हीन समझतीं ?
  20. अगर पुरुष भ्रूण हत्या होती तो क्या होता ?
  21. अगर समाज में पुरुषों को खरीदा और बेचा जाता तो क्या होता ?

अगर यह सब सच में होता तो पुरुषों की स्तिथि और उनका मानसिक पीड़ा कैसी होती ? सच कहूँ तो ऐसे सवालों का और सोच का कोई अंत नहीं है | यदि कोई ऐसा समाज होता तो उसका चेहरा कैसा होता ? और पुरुषों की सोच ऐसे समाज में कैसी होती ? मेरे दिमाग में सदा ही ऐसी सोच और ऐसे अजीब-ओ-गरीब सवाल उठ खड़े होते हैं | इनका उत्तर मेरे पास नहीं है । वो इसलिए क्योंकि मैं अपने आप से सवाल करता हूँ | हर एक स्तिथि में मैं पहले खुद को रखता हूँ और फिर अपने आप से सवाल करता हूँ, “अगर तू उसकी जगह पर होता तो क्या होता ?” | जब तक अंतर्मन से जवाब नहीं मिलता तब तक मैं कोई भी फैसला नहीं ले पता | काश! आज का समाज भी ऐसे ही अपने आप से सवाल करता कुछ भी कहने या करने से पहले कम से कम कुछ तो सोचता  | जिसकी पीड़ा है कम से कम उसकी पीड़ा का अनुभव तो करता और महसूस करता ।  तब शायद ऐसी  भद्दी टिप्पड़ियाँ, ऐसी गन्दी और निचली सोच, ऐसे ओछे विचार, ऐसी शर्मनाक हरकतें और ऐसी नकारात्मक मानसिकता पैदा ही न हो पाती | काश! मेरे बस में कुछ होता तो मैं भी उसके लिए शायद कुछ तो कर पाता पर दुःख इस बात का है के सिर्फ मैं अपने आप से और सभी से सवाल ही कर सकता हूँ | इससे ज्यादा कुछ और नहीं | आशा है ऐसे ही सवाल दुसरे भी, आने वाले भविष्य में अपने आप से करने का कष्ट करेंगे और इस समाज को रहने लायक बनाने में योगदान देंगे | आज सिर्फ मैं प्रार्थना कर सकता हूँ के, “परमपिता परमात्मा, उसकी आत्मा को शांति प्रदान करे और उससे जल्द से जल्द इन्साफ मिल सके” |