बुधवार, मार्च 13, 2013

आयो होली को त्यौहार

आयो होली को त्यौहार
लायो रंगों की बौछार
भीजी चुनरी तुम्हार
सुलगे जियेरा हमार
आओ मिल बांटे प्यार
आयो होली.....

आयो होली को त्यौहार
फागुन सुलगाये सांस
आयो देखो मधुमास
मारे हिलोरे आस
बसंत जिलावे प्यास   
आयो होली...

आयो होली को त्यौहार
खिलती कली कली
अरमानो में खलबली
गीत गावे मनचली
चली मैं पिया गली
आयो होली.....

आयो होली को त्यौहार
कोकिला कूक लगाये
अमिया बौरायी जाये
अंतर्मन अग्न जगाये
प्रिये संग नेह बनाये
आयो होली...

आयो होली को त्यौहार
भंग लाओ मेरे यार
रंग चढे अब के बार
आई टेसू की फुहार
हुडदंग होवे सर पार
आयो होली.....

आयो होली को त्यौहार
ढोल मंजीरे बजाएं ताल
नाचें बाल, बाला, गोपाल
नभ उड़े अबीर-ओ-गुलाल
गरे डारे बइयाँ माल
आयो होली.....

आयो होली को त्यौहार
शायरी, नज़्म, पान
कविता, शेर, पीकदान  
साहेबान, मेहरबान
कदरदान, खानदान
आयो होली.....

आयो होली को त्यौहार
पकवान मज़ेदार
कांजी-बड़ा ज़ोरदार
आलू पोहा मिर्चमार  
ठंडाई चढ़ी नशेदार
आयो होली.....

आयो होली को त्यौहार
राजमा-चावल मांडमार
छोले भठूरे ज़ायकेदार
कढ़ी पकोड़ी झोलदार
पिंडी छोले हवादार
आयो होली.....

आयो होली को त्यौहार
सैंडविच, टिक्की, भेल, पापड़ी
स्नैक्स, उपमा, चकली, फाफ्ड़ी
नगौरी, ढोकला, मठरी, कचौड़ी
मेथी चटनी, भल्ले, समोसा, पूड़ी
आयो होली.....

आयो होली को त्यौहार
मिष्ठानों से भरते थाल    
रसगुल्ला, गुंजिया, लड्डू, बर्फ़ी,
खीर, जलेबी, हलवा, कतली
सबरों देसी घी को माल
आयो होली.....

आयो होली को त्यौहार
ज़न्खी बेरंगी सरकार
निगोड़ी से न दरक़ार
किसी की न वफ़ादार
बेमानी, चोर और बेकार
आयो होली.....

आयो होली को त्यौहार
मज़हबी दंगे फसाद
सुसरे सब अवसरवाद
नफरत बारूदी खाद
हमरी नस्ल हुई बर्बाद
आयो होली.....

आयो होली को त्यौहार
खून से ललाम लाल
मचा कैसा है बवाल
पिचकारी गोला हाथ
गुब्बारा बम के साथ
आयो होली.....

आयो होली को त्यौहार
नशेड़ियों की होती मांग
दारू, सुलफ़ा, चरस, अफीम,
बीडी, सिगरेट, गांजा, भांग
हाई हो देते सीमा लांघ
आयो होली.....

आयो होली को त्यौहार
लाल प्रेम का गुलाल
पीली मित्रता की धार
नीली सौभाग्य की फुहार
बैंगनी खुशियाँ अपार
आयो होली.....

14 टिप्‍पणियां:

  1. होली पर बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति,आभार.

    जवाब देंहटाएं
  2. लग रहा है चारों ओर होली की महक उसके रंग छितरे पड़े हैं ...
    लाजवाब ...

    जवाब देंहटाएं
  3. आपकी कविता ने वसंतोत्सव के सारे नज़ारे दिखला मंत्रमुग्ध कर दिए ...
    शुभकामनायें !!

    जवाब देंहटाएं
  4. बसंत से होली तक सारे नजारे पढ़कर आनंद आ गया,,,,

    Recent post: होरी नही सुहाय,

    जवाब देंहटाएं
  5. अब तो रंग चढ़ना ही है भाई-
    नजदीक आ गई है होली-
    शुभकामनायें प्रिय तुषार

    जवाब देंहटाएं
  6. tushar ye prem ras ...khana khajana aur aakrosh ka mocktail pasand aaya mujhe :-)

    जवाब देंहटाएं
  7. होली से पहले ही होली का फसाद चालू कर दिया आपने ...अरे! कुछ दूसरों के कहने के लिए भी छोड़ दिया होता . सारे रंग अपने हाथ ले लिए ...अब हम क्या लगायेगें :P

    जवाब देंहटाएं
  8. रंगों के त्यौहार की प्यारी कविता

    जवाब देंहटाएं
  9. भिन्न भिन्न रंगों से रंगी
    सुन्दर रचना

    जवाब देंहटाएं
  10. आप सभी ने मेरी रचना को सराहा उसके लिए बहुत बहुत धन्यवाद्... आभार !

    जवाब देंहटाएं
  11. सच में लग रहा है होली आ ही गई.;बहुत खूब

    जवाब देंहटाएं

कृपया किसी प्रकार का विज्ञापन टिप्पणी मे न दें। किसी प्रकार की आक्रामक, भड़काऊ, अशिष्ट और अपमानजनक भाषा निषिद्ध है | ऐसी टिप्पणीयां और टिप्पणीयां करने वाले लोगों को डिलीट और ब्लाक कर दिया जायेगा | कृपया अपनी गरिमा स्वयं बनाये रखें | कमेन्ट मोडरेशन सक्षम है। अतः आपकी टिप्पणी यहाँ दिखने मे थोड़ा समय लग सकता है ।

Please do not advertise in comment box. Offensive, provocative, impolite, uncivil, rude, vulgar, barbarous, unmannered and abusive language is prohibited. Such comments and people posting such comments will be deleted and blocked. Kindly maintain your dignity yourself. Comment Moderation is Active. So it may take some time for your comment to appear here.