शुक्रवार, जुलाई 24, 2015

दोस्ती - दोस्ती ही रहती है














दोस्ती...

ज़िन्दगी का इम्तिहान है
धैर्य रुपी गरिमा महान है

सच्चे दिलों का ईमान है
धर्म का अद्भुत ज्ञान है

एक साथ मिल हँसना है
एक साथ मिल रोना है

उस प्रेम की तरह होती है
जो कभी बूढ़ा नहीं होता है

गर्म और सुखद रहती है
जब बाक़ी ठंडा पड़ जाता है

'निर्जन' तब भी दोस्ती रहती है
जब जीवन में प्रलय आ जाता है

--- तुषार राज रस्तोगी ---